ताज़ा खबर
 

दिवंगत पूर्व सीएम नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर का निधन

कांग्रेस से तालुल्क रखने वाले एनडी तिवारी का जीवन विवादों से घिरा था। उन्होंने साल 1954 में सुशीला तिवारी से शादी की थी, जबकि 14 मई 2014 को दूसरी बार शादी रचाई थी। वह तब 88 साल के थे और उन्होंने उज्ज्वला तिवारी को जीवन संगिनी चुना था।

पिता एनडी तिवारी के साथ रोहित शेखर। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः वीरेंद्र नेगी)

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व दिवंगत मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी नहीं रहे। वह 39 साल के थे। शुरुआती रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि मंगलवार (16 अप्रैल, 2019) शाम उन्हें दिल का दौरा पड़ा। हालांकि, इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। रोहित, दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी इलाके में रहते थे।

बताया गया कि हर्ट अटैक के बाद आनन-फानन उन्हें राजधानी दिल्ली स्थित मैक्स अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पर एएनआई ने डीसीपी दक्षिणी दिल्ली विजय कुमार के बयान के हवाले से कहा कि रोहित को मृत अवस्था में ही अस्पताल लाया गया था।

वहीं, दिल्ली पुलिस के ज्वॉइंट कमिश्नर देवेश श्रीवास्तव ने एक न्यूज साइट से कहा, “रोहित की नाक से खून निकला था। यह बात उनके नौकरों ने मां को फौरन बताई। लेकिन घटना के वक्त वह घर पर नहीं थीं। वह तब अस्पताल में चेक-अप के लिए गई थीं। फिर एंबुलेंस बुलाकर रोहित को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित किया गया।

वैसे, कांग्रेस से तालुल्क रखने वाले एनडी तिवारी का जीवन विवादों से घिरा था। उन्होंने साल 1954 में सुशीला तिवारी से शादी की थी, जबकि 14 मई 2014 को दूसरी बार शादी रचाई थी। वह तब 88 साल के थे और उन्होंने उज्ज्वला तिवारी को जीवन संगिनी चुना था।

शुरुआत में एनडी तिवारी ने टेस्ट के लिए सैंपल देने से मना कर दिया था। हालांकि, बाद में वह कोर्ट का आदेश मान गए थे। यही नहीं, उन्होंने कानूनन रोहित को बेटा भी माना था। साथ ही संपत्ति का वारिस भी बनाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App