ताज़ा खबर
 

हवाई यात्रा में विशेष सुविधा हासिल करने के लिए रॉबर्ट वाड्रा ने किया हैसियत का ‘दुरुपयोग’ : तहलका

तहलका पत्रिका ने दावा किया कि कुछ अधिकारी, नौकरशाह और दूसरे विशिष्ट लोगों ने एक निजी एयरलाइन कंपनी से मुफ्त टिकट और दूसरी सुविधाएं लेने के लिए अपनी हैसियत का ‘दुरुपयोग’ किया जो सेवा नियमों और शिष्टाचार का गंभीर उल्लंघन है। पत्रिका के राजनीतिक संपादक रमेश रामचंद्रन ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में आरोप […]

Author November 29, 2014 10:48 AM

तहलका पत्रिका ने दावा किया कि कुछ अधिकारी, नौकरशाह और दूसरे विशिष्ट लोगों ने एक निजी एयरलाइन कंपनी से मुफ्त टिकट और दूसरी सुविधाएं लेने के लिए अपनी हैसियत का ‘दुरुपयोग’ किया जो सेवा नियमों और शिष्टाचार का गंभीर उल्लंघन है।

पत्रिका के राजनीतिक संपादक रमेश रामचंद्रन ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में खुद के लिए, अपने एक सहयोगी और उसके बच्चों एवं उसकी मां के लिए कई रियायतें हासिल कीं।
वहीं नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) में प्रतिनियुक्ति पर तैनात पश्चिम बंगाल के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी टिकट राशि का केवल एक छोटा सा हिस्सा भरकर अपने परिवार को 28 विदेशी गतंव्यों पर ले गए।

तहलका के अनुसार नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के पूर्व अध्यक्ष, नागरिक उड्डयन मंत्रालय के एक पूर्व सचिव, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के एक पूर्व महानिदेशक और भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष ने भी ‘रियायतें हासिल कीं।’
तहलका ने जिन लोगों पर आरोप लगाए हैं, उनमें से कोई भी टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं था। संबंधित एयलाइन कंपनी जेट एयरवेज से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

तहलका के आरोप ‘गलत’ : जेट एयरवेज

जेट एयरवेज ने तहलका पत्रिका के विशिष्ट लोगों को मुफ्त टिकट देने और उन्हें सीटों में विशेष तरजीह देने के आरोपों को ‘गलत’ और ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताते हुए कहा कि यह पूरी दुनिया में विमानन उद्योग का एक आम चलन है।

जेट एयरवेज ने एक बयान में कहा, ‘‘सीटों को अपग्रेड करना वैश्विक यात्रा, पर्यटन और सेवा क्षेत्रों में एक आम चलन है और उपलब्धता को देखते हुए सेवा प्रदाता की समझ पर यात्रियों को यह सुविधा दी जाती है। जेट एयरवेज को अपने विशिष्ट मेहमानों को अपनी समझ के आधार पर अपग्रेड समेत दूसरी सुविधाएं देने का अधिकार है और ऐसा हम अ‍ेकेले नहीं करते।’’
बयान के अनुसार, ‘‘लेख में लगाए गए आरोप गलत और दुर्भाग्यपूर्ण हैं।’’

Next Stories
1 इराक में अगवा सभी 39 भारतीय सुरक्षित, विदेश मंत्री ने संसद को किया आश्वस्त
2 उच्च न्यायालय ने नर्सरी दाखिलों में प्वाइंट सिस्टम किया रद्द
3 मुझे नहीं लगता, राहुल गांधी का नाम असंसदीय है
ये पढ़ा क्या?
X