RK Pachauri Relief From Court In Sexual Harassment Case Till 26th Feb - Jansatta
ताज़ा खबर
 

आरके पचौरी की गिरफ्तारी पर 26 तक रोक

यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे ‘दि एनर्जी एंड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट’ (टेरी) के महानिदेशक आरके पचौरी को गिरफ्तारी से फिलहाल राहत मिल गई है। सोमवार को उन्हें अदालत ने 26 फरवरी तक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी। पचौरी की अग्रिम जमानत अर्जी की सुनवाई के बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राजकुमार त्रिपाठी ने […]

Author February 24, 2015 9:24 AM
पचौरी के खिलाफ 13 फरवरी को लोधी कॉलोनी पुलिस थाने में आईपीसी की धारा 354-ए, 354-डी और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था। (फाइल फ़ोट पीटीआई)

यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे ‘दि एनर्जी एंड रिसोर्सेस इंस्टीट्यूट’ (टेरी) के महानिदेशक आरके पचौरी को गिरफ्तारी से फिलहाल राहत मिल गई है। सोमवार को उन्हें अदालत ने 26 फरवरी तक गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दे दी।

पचौरी की अग्रिम जमानत अर्जी की सुनवाई के बाद अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश राजकुमार त्रिपाठी ने मामले के जांच अधिकारी को नोटिस जारी कर पचौरी के आवेदन पर उनका जवाब भी मांगा। अदालत ने अपने आदेश में पचौरी की बीमारी पर रिपोर्ट देने के लिए जांच अधिकारी को नोटिस जारी किया और उनकी बीमारी संबंधित दस्तावेजों के सत्यापन के लिए कहा। अदालत ने कहा कि इस मामले की अब 26 फरवरी को सुनवाई होगी और इस दौरान आरोपी की गिरफ्तारी नहीं होगी।

इससे पहले एक महिला कर्मचारी के यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे टेरी के महानिदेशक पचौरी ने दिल्ली हाई कोर्ट में दायर अपनी जमानत याचिका वापस ले ली और राहत के लिए निचली अदालत का रुख किया।

जांच के दौरान पुलिस के हिरासत में लिए जाने के भय से पचौरी अग्रिम जमानत के लिए हाई कोर्ट गए थे। इसके बाद न्यायमूर्ति गर्ग ने 19 फरवरी को 23 फरवरी तक के लिए उन्हें गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा दी थी। उसके बाद पचौरी को जमानत याचिका लेकर निचली अदालत के न्यायाधीश के समक्ष जाना था। इसके तहत सोमवार को पचौरी के वकील सिद्धार्थ लूथरा ने निचली अदालत से कहा कि वह मामले के गुण-दोष के साथ उनकी बीमारी के आधार पर उनके लिए अग्रिम जमानत की मांग कर रहे हैं। इस पर अदालत ने पूछा कि पचौरी को किस तरह की बीमारी है। लूथरा ने कहा कि हमने उनकी बीमारी के बाबत सारे मेडिकल रिकॉर्ड जमा किए हैं जिसमें हृदय रोग व यूटीआइ से जुड़े मामले शामिल हैं। उन्होंने अदालत को बताया कि हाई कोर्ट ने 19 से 23 फरवरी तक पचौरी को राहत दी थी और इसी वजह से वह अग्रिम जमानत अर्जी दाखिल कर रहे हैं।

शिकायतकर्ता के वकील प्रशांत मेहंदीरत्ता ने अदालत से मामले की सुनवाई मंगलवार को करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि जांच अधिकारी मंगलवार तक जवाब दे सकते हैं और मेडिकल रिकॉर्ड का सत्यापन बहुत आसानी से किया जा सकता है। आरोपी पर लगाए गए आरोप बहुत गंभीर हैं जिसमें शिकायतकर्ता को दबोचना और शारीरिक हमला शामिल है। वकील ने दलील दी कि लंबे समय तक गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण नहीं देना चाहिए क्योंकि आरोपी प्रभावशाली व्यक्ति है और उस संगठन का प्रमुख है जहां शिकायतकर्ता काम कर रही है। अदालत ने कहा कि जांच अधिकारी को आकर अपना जवाब दाखिल करने दें।

पचौरी के खिलाफ 13 फरवरी को लोदी रोड थाने में आइपीसी की धारा 354-ए, 354-डी और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था। पचौरी ने भी पुलिस के समक्ष शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके सेलफोन और कंप्यूटर जैसे संचार उपकरण हैक किए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App