ताज़ा खबर
 

तेजप्रताप की होली ने दिलाई लालू यादव की याद, मां राबड़ी देवी के छलक पड़े आंसू

तेजप्रताप ने पिता लालू प्रसाद यादव की ही तरह होली का आयोजन कर त्योहार मनाने की कोशिश जरूर की, लेकिन उसमें वह रौनक नहीं थी, जो लालू प्रसाद यादव के आयोजन में हुआ करता था।

लालू प्रसाद यादव की होलीआरजेडी नेता तेज प्रताप यादव (फाइल फोटो)

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव होली को हर साल बड़े धूमधाम से मनाया करते थे। लेकिन पिछले तीन साल से उनके जेल में होने की वजह से यह आयोजन नहीं हो पा रहा है। इससे होली पर उनके आवास पर मायूसी छाई रहती है। इस साल उनके बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने पटना में अपने आवास पर पिता लालू प्रसाद यादव की ही स्टाइल में कुर्ताफाड़ होली का आयोजन कर उनकी परंपरा को फिर जीवित किया।

इस मौके पर उन्होंने जमकर होली खेली, फाग गाए और दोस्तों, समर्थकों समेत अन्य लोगों को शुभकामनाएं दीं। बाद में वह बिना हेलमेट लगाए बुलेट बाइक से मां राबड़ी देवी का आशीर्वाद लेने उनके आवास पहुंच गए। उन्हें देखकर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी भावुक हो गईं और उनके आंसू निकल आए। हालांकि कुछ देर में ही उन्होंने खुद को संभाला और बेटे को आशीर्वाद दिया।

तेजप्रताप ने पिता लालू प्रसाद यादव की ही तरह होली का आयोजन कर त्योहार मनाने की कोशिश जरूर की, लेकिन उसमें वह रौनक नहीं थी, जो लालू प्रसाद यादव के आयोजन में हुआ करता था। तेज प्रताप के आयोजन में उनके दोस्त और समर्थक तथा पार्टी कार्यकर्ता मौजूद रहे। उन्होंने पूरे आयोजन के दौरान पिता की नकल करने की भरपूर कोशिश की और उन्हीं की तरह होली गीत भी गाए।

बाद में तेजप्रताप ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के होली नहीं मनाने का विरोध किया और उन्हें चच्चा कहकर होली की बधाई दी।  मीडिया से बात करते हुए तेज प्रताप ने कहा कि वह अपने पिता की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं। कहा कि इस मौके पर उनके भाई तेजस्वी यादव दिल्ली में हैं और वह उनको बहुत याद कर रहे हैं। होली खेलने के बाद वे बुलेट बाइक में बिना हेलमेट लगाए सीधे अपनी मां राबड़ी देवी के आवास पर चले गए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नजरबंदी में मना उमर अब्दुल्ला का 50वां जन्मदिन, छह लोगों को मिली थी मिलने की इजाजत, कुछ ही दूर कैद थे पिता फारूक
2 ‘भाजपा पिछले दरवाजे से सत्ता हासिल करना चाहती है’, 8 महीने पहले बोले थे ज्योतिरादित्य सिंधिया
3 ज्योतिरादित्य के पिता भी 1971 में जनसंघ के टिकट पर ही बने थे सांसद, राजीव गांधी से करीबी के चलते जॉइन की थी कांग्रेस
ये पढ़ा क्या?
X