ताज़ा खबर
 

बिहारः तेजस्वी के मंच पर आते ही हाथ जोड़ सम्मान में खड़े हो गए सारे नेता, पर सोफे से न उठे जगदानंद

बिहार के राजनीतिक गलियारों में कहा जाता है कि जगदानंद सिंह अनुशासन को तवज्जो देने वाले नेता हैं। यह देखा गया है कि जगदानंद सिंह जबसे प्रदेश अध्यक्ष बने हैं तब से पार्टी के नेताओं को ना चाहते हुए भी अनुशासन का पालन करना पड़ता है।

रविवार को राजद स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर पार्टी कार्यालय में तेजस्वी यादव के पहुंचते ही सभी नेता हाथ जोड़कर उनके सम्मान में खड़े हो गए लेकिन प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अपनी सीट पर ही बैठे रहे। (फोटो – ट्विटर/ShyamRajakBihar)

सोमवार को राजद अपना 25वां स्थापना दिवस कार्यक्रम मना रहा है। लेकिन इस कार्यक्रम की शुरुआत रविवार से ही हो चुकी है। रविवार को राजद स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर पार्टी कार्यालय में दिलचस्प नजारा दिखा। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के पार्टी कार्यालय पहुंचते ही सभी नेता हाथ जोड़ कर सम्मान में खड़े हो गए लेकिन प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अपने सोफे से नहीं उठे।

रविवार को राजद कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में जैसे ही नेता तेजस्वी यादव मंच की तरफ पहुंचे तो पूरा सभागार तेजस्वी यादव के नारों से गूंज उठा। मंच पर बैठे सभी नेता भी हाथ जोड़ कर उनके सम्मान में खड़े हो गए लेकिन प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह अपने सोफे पर बैठे रहे। हालांकि तेजस्वी यादव की सीट जगदानंद सिंह की बगल में ही थी। जगदानंद सिंह ने बैठे बैठे ही तेजस्वी को अपनी सीट पर बैठने का इशारा किया। जिसके बाद तेजस्वी अपनी सीट पर आकर बैठ गए।

बिहार के राजनीतिक गलियारों में कहा जाता है कि जगदानंद सिंह अनुशासन को तवज्जो देने वाले नेता हैं। देखा गया है कि जगदानंद सिंह जबसे प्रदेश अध्यक्ष बने हैं तब से पार्टी के नेताओं को ना चाहते हुए भी अनुशासन का पालन करना पड़ता है। किसी भी महापुरुष की जयंती और पुण्यतिथि कार्यक्रम में कोई भी नेता अपनी बारी का इंतजार करके ही पुष्पांजलि अर्पित करता है। सबसे खास बात यह कि खुद जगदानंद सिंह सबसे पीछे खड़े होते हैं।

हालांकि जगदानंद सिंह से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की नहीं बनती है। कुछ महीने पहले तेज प्रताप यादव ने जगदानंद सिंह को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने की भी मांग कर दी थी। तेज प्रताप यादव ने यह भी कहा था कि प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह उनसे मुलाकात भी नहीं करते हैं। वे विधायकों से भी नहीं मिलते हैं। साथ ही तेज प्रताप यादव ने यह भी कहा था कि अब क्या मुझे भी मिलने के लिए उनसे इजाजत लेकर ही आना पड़ेगा। हालांकि जगदानंद सिंह ने तेजप्रताप यादव के बयानों को तूल ना देते हुए कहा था कि घर का मामला है और इसे आपस में सुलझा लेंगे।

हालांकि सोमवार को भी राजद स्थापना दिवस कार्यक्रम पर तेजप्रताप यादव ने जगदानंद सिंह पर तंज कसा लेकिन उन्होंने कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी। दरअसल तेजप्रताप ने सभी राजद जिलाध्यक्षों को गाड़ी मुहैया कराने का सुझाव दिया और लोगों से इसके समर्थन में हाथ खड़ा करने की अपील की। तेजप्रताप के इस सुझाव का तेजस्वी यादव ने भी समर्थन किया लेकिन उनके बगल में बैठे प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह झपकी ले रहे थे। इसपर तेजप्रताप ने तंज कसते हुए कहा कि लगता है जगदानंद चाचा समर्थन में नहीं हैं। बाद में जगदानंद सिंह को जगाया गया तो उन्होंने इसपर कोई भी प्रतिक्रिया नहीं दी।

Next Stories
1 आटा बनाने वाली ‘Shakti Bhog’ के CMD अरेस्ट, बैंक धोखाधड़ी केस में ED का ऐक्शन
2 J&K पर PM की अध्यक्षता में हुई बैठक के नतीजे से निराश, ठोस कदमों का है अभाव- गुपकार गठबंधन
3 जब राहुल से हाथ जोड़ बोले थे PK- साथ में नहीं करना चाहिए काम; जानें अब कैसे हैं दोनों के रिश्ते?
ये पढ़ा क्या?
X