ताज़ा खबर
 

MP कांग्रेस में बढ़ा घमासान: विवाद में ज्योतिरादित्य सिंधिया भी कूदे, बोले- बाहरी लोगों का हस्तक्षेप रोकें सीएम

सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री को दोनों पक्षों की बात सुननी चाहिए और उनसे बातचीत करनी चाहिए। इसके बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचना चाहिए।

Madhya Pradesh Congress Chief Tussle, Tussle over MP Congress Chief, Tussle, Madhya Pradesh, Congress Chief, Jyotiraditya Scindia, Scindia Supporters, Threat, Quit, INC, Son, Mahanaryaman Scindia, Video, Facebook, Congress Leader, Poem, Zid, Bhopal, MP, State News, National News, India News, Hindi Newsकांग्रेसी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः ताशी तोबग्याल)

मध्य प्रदेश कांग्रेस में घमासान लगातार बढ़ता जा रहा है। बुधवार (4 सितंबर 2019) को कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया वन मंत्री उमंग सिंघार के समर्थन में खड़े नजर आए। उन्होंने कहा है कि सरकार पर किसी का हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए। सरकार अपने दम पर चलनी चाहिए। कैबिनेट मंत्री के समर्थन में सिंधिया की यह चौंकाने वाला बयान कमलनाथ सरकार के साथ उनका सीधा टकराव है।

मेला मैदान पर मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि ‘उमंग जी ने जिन मुद्दों को उठाया है उन पर ध्यान देने की जरुरत है। मुख्यमंत्री को दोनों पक्षों की बात सुननी चाहिए और उनसे बातचीत करनी चाहिए। इसके बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचना चाहिए। हम राज्य में 15 साल बाद सत्ता पर काबिज हुए हैं। कांग्रेस पार्टी ने कड़ी मेहनत कर ये दिन देखें हैं इसलिए सरकार को बैठकर बातचीत के जरिए इस मसले का हल निकालना चाहिए।’

मालूम हो कि सिंघार ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वजिय सिंह को ‘ब्लैकमेलर’ करार दिया है। सिंघार ने मीडिया से बातचीत में खुलेआम दिग्विजय सिंह को ‘ब्लैकमेलर’ कहते हुए उनकी बयानबाजी को पार्टी के खिलाफ करार दिया है। मंत्री ने दिग्विजय सिंह को ‘ब्लैकमेलर’ तो कहा ही साथ में यह भी कहा कि वह अक्सर ऐसे बयान देते हैं जिससे कांग्रेस को नुकसान झेलना पड़ता है। वह हिंदू आतंकवाद पर बयानबाजी क्यों करते हैं।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले कांग्रेस महासचिव अवैध खनन को लेकर कमलनाथ सरकार पर निशाना साध चुके हैं। उन्होंने राज्य में जारी अवैध खनन पर सख्त एक्शन लेने की मांग की थी। उन्होंने यह भी कहा था कि यह कांग्रेस का एक अहम चुनावी मुद्दा था जिसे पूरा किया जाना चाहिए। वहीं इससे पहले वह पार्टी के खिलाफ जाते हुए केंद्र सरकार के जम्म-कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाए जाने के फैसला का समर्थन करते नजर आए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पंजाब: पटाखा फैक्ट्री में धमाका, 21 की मौत, कई बिल्डिंग्स को नुकसान, सीएम ने किया मुआवजे का एलान
2 नये UAPA कानून के तहत मसूद अजहर, हाफिज सईद, दाऊद, लखवी आतंकवादी घोषित
3 गिरफ्तारियों से हम डरने वाले नहीं, कठिन सवाल पूछते रहेंगे: कांग्रेस
राशिफल
X