ताज़ा खबर
 

…तब असली मुठभेड़ में चार आतंकियों को ढेर करने पर एसपी का हो गया था ट्रांसफर- ऑपरेशन में शामिल रहे पूर्व आईएएस का दावा

एक पूर्व आईएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने ट्विटर पर एक घटना साझा की है। इस घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने दावा किया है कि असली मुठभेड़ में चार आतंकियों को ढेर करने पर एसपी का ट्रांसफर कर दिया गया था।

Kanpur, Vikas Dubeyविकास दुबे के घर पर दबिश देने के कुछ देर पहले का ऑडियो क्लिप वायरल। (फाइल फोटो)

कानपुर एनकाउंटर के मुख्य अभियुक्त विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर पुलिस की थ्योरी पर सवाल उठ रहे हैं। ऐसे में एक पूर्व आईएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने ट्विटर पर एक घटना साझा की है। इस घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने दावा किया है कि असली मुठभेड़ में चार आतंकियों को ढेर करने पर एसपी का ट्रांसफर कर दिया गया था।

अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ” आज की पीढ़ी ‘असली एनकाउंटर’ कितना भयावह और ख़तरनाक होता है ये भूल ना जाए इसलिए आप सभी के साथ एक कहानी साझा करने आया हूँ। 90 के दशक में मैं नैनीताल का कलेक्टर था और रात में 12 बजे के क़रीब काशीपुर क्षेत्र से आतंकवादियों द्वारा पूरी की पूरी रेलवे लाइन उड़ा देने की खबर आयी।तत्कालीन SSP शिव नारायण सिंह ने मुझे सूचित किया और PAC समेत मेरे बंगले पर पहुँचे। हमने एक कार्ययोजना बनायी और दो टुकड़ों में काशीपुर के लिए रवाना हुए, मैंने जंगल का रास्ता लिए और CO की एक टीम ने हल्द्वानी मेन रूट का। एक दुखदायी घटना में CO समेत पूरी टीम आतंकियों ने बम से उड़ा दी।”

उन्होंने आगे लिखा है, ”सभी की आँखों में आँसू थे और दिमाग में गुस्सा था, 15 लोगों की टुकड़ी जिसे खुद SSP लीड कर रहे थे उन्होंने उन आतंकवादियों को दोनों तरफ से घेरा और तीन घंटे के अंदर हमने चारों आतंकवादियों को मुठभेड़ में मार गिराया। गोलियाँ दोनों तरफ़ से चलीं और खुद बड़े अधिकारियों ने आपरेशन लीड किया। उनकी पहुँच का अंदाज़ा इस बात से लगाइए कि इस घटना के बाद IG ने SSP को पुरस्कृत करने की जगह उनका ट्रान्स्फर लेटर जारी कर दिया था। तब मैंने कल्याण सिंह जी के सामने ‘सत्याग्रह’ किया था और अपने इस्तीफ़े की पेशकश की थी। ट्रांसफर लेटर वापिस लिया गया और हमारा ऑपरेशन जारी रहा महीनों।

सिलसिलेवार ट्वीट करते उन्होंने आगे लिखा है,” उस रात CO और टीम के साथ जो हुआ उनका टारगेट मैं और शिवनारायण सिंह थे। वो आज हमारे बीच में नहीं हैं, मैं उनके परिवार का दर्द समझता हूँ। बहुत लम्बे समय तक मैं उन सभी के परिवारों के साथ सम्पर्क में भी रहा। कल जो हुआ वो सिर्फ एक कमजोर स्क्रिप्ट थी और ऐसे हज़ारों बड़े आपरेशनों पर कलंक।”

बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना टेस्टिंग को लेकर राज्य सरकार की तरफ से कोताही बरतने का आरोप लगाने पर पिछले महीने सूर्य प्रताप सिंह पर योगी सरकार ने मुकदमा दर्ज किया था। ‘नो टेस्ट, नो कोरोना’ वाले ट्वीट पर उनके खिलाफ कोरोना संक्रमण से निपटने के सरकारी प्रयासों से संबंधित गलत सूचना पोस्ट करने का मुकदमा दर्ज किया गया था।  लखनऊ स्थित सचिवालय चौकी प्रभारी सुभाष सिंह की शिकायत पर हजरतगंज कोतवाली में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Congress सांसदों की बैठकः राहुल गांधी फिर संभालें पार्टी की कमान- एक सुर में मीटिंग में उठी आवाज
2 लगातार झूठ बोल रहे नरेंद्र मोदी, चीन पर दे रहे देश को धोखा- Congress सांसदों से बैठक में बोला राहुल गांधी ने PM पर हमला
3 पीएम का ट्वीट शेयर कर राहुल गांधी ने लिखा ‘असत्याग्रही’, सरकारी दावों पर उठाए सवाल, लोग भी नरेंद्र मोदी को करने लगे ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X