ताज़ा खबर
 

INX मीडिया केस: वित्त मंत्रालय के पूर्व अफसरों पर ऐक्शन पर भड़के 70 रिटायर्ड ब्यूरोक्रेट, पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी

पत्र में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने नीतिगत पंगुता को दूर करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम में पिछले साल संशोधन किया था। इसमें रिटायर्ड अधिकारियों या सेवारत अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने से पहले सरकार से अनुमति लेने की बात कही गई थी।

Author नई दिल्ली | Published on: October 5, 2019 9:21 AM
पीएम मोदी ने की शांति बनाए रखने की अपील, (फाइल फोटो)

आईएनएक्स मीडिया मामले को लेकर 70 से अधिक पूर्व नौकरशाहों ने पीएम नरेंद्र मोदी को खुला पत्र लिखा है। पूर्व नौकरशाहों ने इस मामले में वित्त मंत्रालय के पूर्व  अधिकारियों को आईएनएक्स मीडिया मामले में आरोपी बनाए जाने पर चिंता जताई है।

इस मामले में सिंधुश्री खुल्लर, अनूप पुजारी, प्रबोध सक्सेना और रबिंद्र प्रसाद के खिलाफ  केस दर्ज किया गया है। पूर्व नौकरशाहों का कहना है कि संकीर्ण राजनीतिक फायदों के लिए पूर्व व मौजूदा अधिकारिओं को जानबूझ कर निशाना बनाया जा रहा है। रिटायर्ड  नौकरशाहों का कहना है कि पूर्व नौकरशाहों पर केस दर्ज करने के गंभीर परिणाम होंगे। नौकरी कर रहे अधिकारियों के प्रभावित होने के कारण इसका परिणाम नीतिगत पंगुता  के रूप में भी देखने को मिल सकता है।

पत्र में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने नीतिगत पंगुता को दूर करने के लिए भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम में पिछले साल संशोधन किया था। इसमें रिटायर्ड अधिकारियों या सेवारत अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने से पहले सरकार से अनुमति लेने की बात कही गई थी। लेकिन मौजूदा कदम सरकार के प्रयासों को नुकसान पहुंचाएगा।

अधिकारियों ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है जो सेवा में नहीं है।  इन अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामला चलाया जा रहा है जो साफ तौर पर राजनैतिक प्रतिदंद्विता के कारण शुरू हुआ है।  इससे पहले रिटायर्ड अधिकारी पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मुद्दे पर पत्र लिख चुके हैं। लेकिन यह पहली बार है कि इन लोगों ने अपनी सेवा से जुड़े मुद्दे को उठाया है।

इस पत्र पर पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन, पूर्व कैबिनेट सचिव केएम चंद्रशेखर, पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार नितिन देसाई और योजना आयोग के पूर्व सचिव एनसी सक्सेना ने हस्ताक्षर किए हैं। मालूम हो कि आईएनएक्स मीडिया मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम अभी तिहाड़ जेल में बंद हैं। चिंदबरम ने कहा था कि जो अधिकारियों ने आईएनएक्स मीडिया फाइल से जुड़े रहे हैं उन्हें निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पूर्व महिला मेयर और पति को BJP ने किया बर्खास्त, मारपीट के वीडियो से हुई थी पार्टी की फजीहत
2 विपक्षी नेता के खिलाफ छापे से पक्की हुई CBDT चेयरमैन की कुर्सी!!! बड़े टैक्स अधिकारी पर महिला IT अफसर के गंभीर आरोप
3 National Hindi News, 5 October Top Breaking 2019: बांग्लादेश के साथ भारत के रिश्तों में नई मजबूती आई है – पीएम मोदी