ताज़ा खबर
 

मोदी के मंत्रिमंडल में भी होगा फेरबदल? पीएम मोदी कर रहे दो साल के काम की समीक्षा!

अटकलें लगाई जा रही हैं कि प्रधानमंत्री मोदी केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल की योजना बना रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीएम आज से मंत्रियों के साथ "मूल्यांकन" बैठकें या "परामर्श" करना शुरू करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (एक्सप्रेस फोटो)।

अटकलें लगाई जा रही हैं कि प्रधानमंत्री मोदी केंद्रीय मंत्रिमंडल में फेरबदल की योजना बना रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पीएम आज से मंत्रियों के साथ “मूल्यांकन” बैठकें या “परामर्श” करना शुरू करेंगे। सरकारी सूत्रों के मुताबिक इस तरह की बैठकों के दौरान प्रदर्शन की समीक्षा की जाएगी और आगे की राह पर चर्चा होगी। पीएम उन मंत्रियों का भी भार कम करने की योजना बना रहे हैं, जो कई मंत्रालयों को संभाल रहे हैं। इस बीच पीएम मोदी के आवास पर गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा पीएम के साथ मीटिंग कर रहे हैं।

पीएम अब कैबिनेट में फेरबदल क्यों कर रहे हैं?: मंत्रिमंडल में फेरबदल के पीछे COVID-19 मामलों में कमी, COVID-19 की दूसरी लहर को वेक-अप कॉल के रूप में देखे जाने, विपक्ष के हमलों के बीच छवि बदलाव की जरूरत, COVID-19 के झटके के बाद कई क्षेत्रों को कायाकल्प की आवश्यकता को वजह माना जा रहा है। वैसे भी 2019 में पीएम का कार्यकाल शुरू होने के बाद से कोई फेरबदल नहीं हुआ है।

माना जा रहा है कि कैबिनेट विस्तार इस महीने हो सकता है। मंत्रिमंडल में फेरबदल और बदलाव के लिए 23 मंत्रालयों का चयन किया गया है। साथ ही एनडीए में शामिल सहयोगी दलों से विचार विमर्श शुरू कर दिया गया है। गौरतलब है कि कई मंत्रियों के निधन और अन्य कारणों से सरकार में दर्जन भर मंत्रियों के पास एक से अधिक मंत्रालयों का जिम्मा है। विस्तार के जरिए ऐसे मंत्रियों का बोझ कम किया जाएगा।

वर्तमान में कई मंत्रियों पर काम का बोझ बहुत ज्यादा है। ऐसा दो मंत्रियों शिवसेना के अरविंद सावंत, अकाली दल की हरसिमरत कौर के इस्तीफे और दो मंत्रियों की मौत के कारण हुआ है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के पास पर्यावरण के साथ भारी उद्योग मंत्रालय का भी प्रभार है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल के पास वाणिज्य, रेल मंत्रालय के अतिरिक्त उपभोक्ता मामलों का भी प्रभार है। इसी तरह पहले ही कृषि , पंचायती राज और ग्रामीण विकास का जिम्मा संभाल रहे नरेंद्र सिंह तोमर के पास खाद्य प्रसंस्करण का अतिरिक्त प्रभार है। जबकि आयुष मंत्री श्रीपद नाईक के सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद उनके मंत्रालय का जिम्मा खेल एवं युवा मामलों के मंत्री किरेन रिजिजू संभाल रहे हैं।

इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मोदी कैबिनेट में शामिल होने पर अपनी सहमति दे दी है। सूत्रों का कहना है कि जदयू को कैबिनेट और राज्यमंत्री का एक-एक पद दिया जाएगा। अपना दल को मंत्रिपरिषद विस्तार में जगह मिल सकती है।

Next Stories
1 भाजपा छोड़ टीएमसी में पहुंचे मुकुल रॉय बोले- जो स्थिति है, भाजपा में कोई नहीं रहेगा, क्या और लोग भी छोड़ेंगे साथ?
2 तीन-तीन चुनाव हारने वाले जितिन प्रसाद को विधान परिषद भेजने की अटकल, यूपी बीजेपी में गुटबाज़ी बढ़ने का डर
3 “मोदी है तो महंगाई है” कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर किया देशभर में विरोध प्रदर्शन
ये  पढ़ा क्या?
X