ताज़ा खबर
 

PoK हमारा है, इसे लेकर रहेंगे…Republic TV पर अर्नब गोस्वामी की हुंकार

अर्नब ने शो में कहा, "जब गीदड़ की मौत आती है, तो वह शहर की तरफ भागते हैं। वैसे ही जब पाकिस्तान में पले आतंकियों की मौत आती है, तो वे भारत की तरफ आते हैं।"

Republic TV, Arnab Goswamiरिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने पाकिस्तान को ललकारा।

रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्नब गोस्वामी ने अपने शो पूछता है भारत में पाकिस्तान पर जमकर निशाने साधे। अर्नब ने नगरोटा में सेना के आतंकियों के खिलाफ किए गए ऑपरेशन पर बधाई दी। पाकिस्तान की सत्ता में बैठी सरकार को कायर बताते हुए अर्नब ने कहा कि भारत में बैठे पाकिस्तान समर्थक भी पूछता है भारत देखते हैं, इसलिए अब पाकिस्तान को सबूत या डोजियर भेजने का वक्त नहीं है। अब इनका सिर्फ एक ही इलाज है, एक ही नारा है PoK हमारा है और हम इसे लेकर रहेंगे।

अर्नब यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा कि अब एक ही नारा है, पीओके हमारा है। समय आ गया है कि पाक अधिकृत कश्मीर को पाकिस्तान से छीनकर भारत में फिर से शामिल कर लिया जाए। न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी। समय पर गौर कीजिए दोस्तों, जम्मू-कश्मीर में 9 दिन बाद जिला विकास परिषद के चुनाव हैं। पाकिस्तान आजकल बेचैन है। वह नहीं चाहता कि जम्मू-कश्मीर के लोग घर के बाहर निकलकर वोट देने जाएं। क्योंकि अगर ऐसा हो गया तो पाकिस्तान के अरमानों पर पानी फिर जाएगा। पाकिस्तानियों की कश्मीर वाली दुकानदारी बंद हो जाएगी। इसीलिए हमारा पड़ोसी कश्मीरियों को डराना चाहता है।

अर्नब ने आगे कहा, अब बहुत हो गया। आखिर हम पाकिस्तान के टुकड़ों पर पलने वालों को देश में घुसने का मौका ही क्यों दें। क्यों न इन आतंकियों को जड़ से नष्ट न कर दें। उखाड़ दें। उनके ठिकाने पर ही उनका काम तमाम कर दें। कहते हैं जब गीदड़ की मौत आती है, तो वह शहर की तरफ भागते हैं। वैसे ही जब पाकिस्तान में पले आतंकियों की मौत आती है, तो वे भारत की तरफ आते हैं।

‘क्या सर्जिकल स्ट्राइक के बिना नहीं मानेगा पाकिस्तान’: रिपब्लिक टीवी के एडिटर ने पूछा कि क्या पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर के स्थानीय चुनावों से घबरा गया है? क्या वह सर्जिकल स्ट्राइक के बिना नहीं मानेगा? क्या जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद जो शांति है, उससे डर गया है पाकिस्तान? क्या पीओके से पाकिस्तान को भगाना ही एक आखिरी इलाज है?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बिहार: पुलिस के डर से तब अंडरग्राउंड थे मेवालाल चौधरी, अब BJP के दबाव में गई कुर्सी, पहले “डर” से नहीं किया था विरोध
2 संपादकीय: दहशतगर्दी का दायरा
3 सबरंग: खबर कोना
यह पढ़ा क्या?
X