ताज़ा खबर
 

कुंद्रा मामले में अर्नब ने उठाया बॉलीवुड की चुप्पी पर सवाल तो पुराने समय का जिक्र कर मुकेश खन्ना ने कही ये बात

मुकेश खन्ना बोले, "साहब आज एक मोबाइल में चार बटन दबाने के बाद एक बच्चा भी पोर्नोग्राफी फिल्म देख सकता है। यह बहुत-बहुत गंभीर मुद्दा है। मैं इसे हल नहीं कर सकता हूं, पूरा पैनल नहीं हल कर सकता है। केवल सरकार इसका हल निकाल सकती हैं।"

बॉलीवुड एक्टर मुकेश खन्ना। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस)

जब से मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को अश्लील फिल्में बनाने और उन्हे प्रकाशित करने के मामले में गिरफ्तार किया है, तब से इस पर देशभर में चर्चाएं जारी हैं। अश्लील फिल्में बनाने और इसके खिलाफ आवाज उठाने का प्रयास पहले भी हुआ है, लेकिन राज कुंद्रा की गिरफ्तारी के बाद यह तेज हो गया है। अंग्रेजी न्यूज चैनल रिपब्लिक टीवी पर एंकर अर्नब गोस्वामी के साथ डिबेट में महाभारत में भीष्म की भूमिका निभाने वाले चर्चित कलाकार शख्तिमान फेम मुकेश खन्ना ने अपनी बात रखी।

एंकर अर्नब गोस्वामी ने डिबेट में पूछा कि हर मुद्दे पर आवाज उठाने वाला बॉलीवुड इस मुद्दे पर इतना चुप्पी क्यों साधा है। इस पर मुकेश खन्ना ने कहा, “पोर्नोग्राफी फिल्मों को लेकर लोग ज्यादा नहीं बोलते, मैं हमेशा आगे आया हूं और बोलने के लिए अलग-थलग कर दिया गया हूं। लोग बोलते हैं क्यों मुकेश खन्ना बोल रहे हैं। मुझे लगता है कि इंडस्ट्री समझती है कि हम फैमिली हैं और हम फैमिली के मेंबर एक-दूसरे के बारे में नहीं बोलेंगे। यह खतरनाक होगा। यह भारतीय समस्या नहीं है। यह अंतरराष्ट्रीय समस्या है। यह हर जगह उपलब्ध है। साफ्ट फिल्म बनाना, पोर्नोग्राफी फिल्म बनाना, यह सभी इंटरनेट प्लेटफार्म पर उपलब्ध है।”

उन्होंने कहा कि “मैंने एक वीडियो मुद्दा उठाया था ओटीटी बनाम अश्लील प्लेटफार्म। अब ओटीटी एक निरंकुश प्लेटफार्म है। प्रोड्युसर उसमें सब कुछ डाल देते हैं। हमारे जमाने में क्या होता था कि किसी को ऐसी फिल्में देखनी होती थी तो पूरे ग्रुप को एक कमरा खाली करना पड़ता था। प्रोजेक्टर आता था। अंधेरे में अकेले बैठकर फिल्में देखते थे।”

मुकेश खन्ना बोले, “साहब आज एक मोबाइल में चार बटन दबाने के बाद एक बच्चा भी पोर्नोग्राफी फिल्म देख सकता है। यह बहुत-बहुत गंभीर मुद्दा है। मैं इसे हल नहीं कर सकता हूं, पूरा पैनल नहीं हल कर सकता है। केवल सरकार इसका हल निकाल सकती हैं। कानून इसका हल नहीं है। सब छूट जाते हैं। जब कानून आता है तो कहां हू सबूत कहकर सब बच जाते हैं। हम केवल समर्थन कर सकते हैं, लेकिन कोई सबूत नहीं दे सकते हैं। कानून में सबके बचने का रास्ता निकल आता है।”

डिबेट में पैनल में शामिल कई अन्य लोगों ने भी अपनी बात रखी और मुकेश खन्ना की बात का समर्थन किया। कहा बॉलीवुड में पैसा बोलता है और पैसे के लिए लोग सब कुछ करने को तैयार रहते हैं। इस पर समाज को सोचना होगा।

Next Stories
1 कोरोनाः पड़ोसी की मौत हुई तो डर से परिवार ने खुद को किया टेंट हाउस में बंद, 15 माह बाद पुलिस ने निकाला
2 जेआरडी टाटा ने भेंट की थी परफ्यूम तो इंदिरा गांधी ने खत ल‍िख कर द‍िया था क्‍या जवाब, जानें
3 संसद में बवाल के बाद सरकार के बचाव में आगे आए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने विपक्ष को बताया स्वार्थी, हुए ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X