ताज़ा खबर
 

पप्पू यादव से बोले अर्नब, आप कब बन गए किसान? आग भड़काने की करते हैं खेती, मिला जवाब

अपने शो के माध्यम से अर्नब ने दावा किया कि कुछ लोग लगातार किसान और सरकार के बीच होने वाली बातचीत में रोड़ा अटका रहे हैं। एंकर ने कहा कि ये आंदोलन की आग को और भड़काना चाहते हैं। इनके लिए किसान इंसान नहीं है, बस एक मुद्दा हैं।

Arnab Goswami, Republic TV Network, Republic BharatRepublic TV के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी। तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः यूट्यूब स्क्रीनग्रैब)

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ राजधानी दिल्ली से सटी सीमाओं पर किसानों का आंदोलन पिछले 42 दिन से जारी है। इसको लेकर न्यूज़ चैनलों में टीवी डिबेट भी देखने को मिल रही है। ऐसी ही एक बहस रिपब्लिक भारत के शो ‘पूछता है भारत’ में हो रही थी। इस दौरान रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ और एंकर अर्नब गोस्वामी ने जन अधिकार पार्टी प्रमुख व पूर्व सांसद पप्पू यादव से पूछा कि वह किसान कब बन गए।

अपने शो के माध्यम से अर्नब ने दावा किया कि कुछ लोग लगातार किसान और सरकार के बीच होने वाली बातचीत में रोड़ा अटका रहे हैं। एंकर ने कहा कि ये आंदोलन की आग को और भड़काना चाहते हैं। इनके लिए किसान इंसान नहीं है, बस एक मुद्दा हैं। अर्णब ने कहा “दोस्तों मैं लगातार कहता आ रहा हूं कि जो लोग इस आंदोलन में आग लगा रहे हैं उनलोगों को पहचाना होगा। ये सिर्फ आग भड़काना जानते हैं, इसे बुझा पाना इनके बस का नहीं है। ये वही लोग हैं जो किसानों की दुर्दशा की वजह हैं, बीते 70 साल में अगर इनलोगों ने किसानों के बारे में जरा सी भी चिंता की होती तो आज किसानों की ये हालत नहीं होती।”

इस दौरान अर्नब ने कहा “आज मैं पप्पू यादव से पूछा, भड़काने वाली गैंग से, टुकड़े-टुकड़े गैंग से, शाहीन बाघ के समर्थकों से, ट्रैक्टर रैली करने वालों से और भारत की जनता से पूछना चाहता हूं कि जो लोग आंदोलन की आड़ में आग भड़का रहे हैं। क्या उनमें इतनी क्षमता है कि वे आग बुझा पाएंगे। पप्पू जी अपने जीवन में एक ऐसा उदाहरण दीजिये जब अपने आग नहीं भड़काई। ” इसपर पप्पू यादव से कहा “अर्नब जी लॉकडाउन में अपने 16 करोड़ रुपया मजदूरों को नहीं दिया, लूट लिया आप लोगों ने। आप पानी में लोगों को बचाने नहीं गए थे। हम गए थे। भड़काते आप हैं।”

पप्पू यादव ने कहा “भड़काने का काम आप चैनल वाले लोग करते हो। आप लोग हमेशा जात-पात की बात करते हो। अभी उन्नाव में क्या हुआ आप चर्चा ही नहीं करते।” इसपर अर्नब ने पूछा “आप किसान हैं? अप कब किसान बन गए। आप कौनसी खेती करते हैं। आप राजनीति की खेती करते हैं।” इसपर जन अधिकार पार्टी प्रमुख ने कहा “हम सबसे बड़े किसान हैं। मैं 9 हज़ार बीघा में किसानी करता हूं। आप बताओ चैनल के मालिक कैसे बन गए। आप तय करोगे कौन किसान है कौन नहीं।”

अर्नब ने कहा “जरा सोचिए, आजादी के सत्तर साल बाद भी किसानों को सड़क पर क्यों उतरना पड़ रहा है, आजादी के सत्तर साल बाद भी किसानों को MSP के भरोसे क्यों रहना पड़ रहा है। किसकी नीतियां किसानों की इस हालत के लिए जिम्मेदार है। क्या ये वाड्रा कांग्रेस वाले नहीं समझते हैं? क्या कांग्रेस को नहीं पता है कि उनकी गलत नीतियों की वजह से किसान आजतक गरीबी से उबर नहीं पाया है। ये बात सभी जानते हैं, पर इस वक्त सब किसानों के मुद्दे को हवा देने में लगे हैं। आज कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने ट्रैक्टर रैली निकाली थी। इस रैली में ट्रैक्टर कम और बड़ी-बड़ी गाड़ियां ज्यादा थीं। अपनी इन्हीं हरकतों से ये लोग खुद एक्सपोज हो जाते हैं। अब तो पूरा देश समझ रहा है कि ये लोग किसानों के नाम पर सिर्फ दिखावा करते हैं।”

एंकर ने कहा “आज उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इन्हें आइना दिखाया है, कहा कि पिछले 6 साल में किसानों की जो प्रगति हुई है अगर ऐसी ही प्रगति पिछले 70 सालों में होती तो आज किसान इस हाल में नहीं होता। आज प्रधानमंत्री को अलग से किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य नहीं रखना पड़ता। दोस्तों योगी आदित्यनाथ की इस बात से मैं भी सहमत हूं, पिछले 6 सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों के लिए जितना किया है उतना किसी और ने नहीं किया। किसानों पर आई स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया, किसानों के लिए नया कानून लेकर आए। ये ऐसा कानून है जिससे देश के छोटे किसानों का सबसे बड़ा फायदा होगा।”

अर्नब ने कहा “इस देश में 80 प्रतिशत किसान छोटी खेती वाले हैं, उनके लिए आजतक कोई नहीं सोचता था, पर पहली बार सरकार के कानून में इन छोटे किसानों के बारे में सोचा गया है, उनकी हालत बेहतर बनाने पर जोर दिया गया है। पर ये बातें विपक्ष के नेताओं को बर्दाश्त नहीं हो रही। कांग्रेस को लग रहा है कि जिस रिपोर्ट पर उनकी सरकार 11 साल तक वो बैठी रही, उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इतनी जल्दी कैसे लागू कर दिया। इसलिए अब ये लोग बैठ कर कानून पर झूठ फैला रहे हैं।”

Next Stories
1 देखिए, नीमा बानो के पिता ने मांगी मदद, जवानों ने बर्फीली पहाड़ी में कंधे पर प्रेग्नेंट महिला को पहुंचाया अस्पताल
2 सुप्रीम कोर्ट ने कहा: किसानों के साथ बातचीत में जमीनी स्तर पर सुधार नहीं
3 यूपी में यूं ही नहीं पास हो गया ‘लव जिहाद’ कानून, गवर्नर बोलीं- ज्यादातर लड़कियां थीं परेशान
ये पढ़ा क्या?
X