ताज़ा खबर
 

26 जनवरी को भी कश्मीर में मुठभेड़, 2 आतंकी ढेर; मोबाइल इंटरनेट सेवा रही निलंबित

मारे गए दोनों आतंकियों की पहचान और उनके समूह का पता लगाया जा रहा है।

Author January 26, 2019 5:02 PM
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस फोटो)

देश के 70वें गणतंत्र दिवस पर भी जम्मू-कश्मीर स्थित श्रीनगर की बाहरी सीमा पर खुनमोह इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई। भारतीय जवानों ने उस दौरान दो आतंकवादी मार गिराए। समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिलने पर सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था। मुठभेड़ के समय राज्य के विभिन्न जगहों पर 26 जनवरी का जश्न मन रहा था। पुलिस अधिकारी के अनुसार, आतंकवादियों के सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाने के बाद तलाश अभियान मुठभेड़ में बदल गया था। मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए। दोनों की पहचान और उनके समूह का पता लगाया जा रहा है।

उधर, सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर शनिवार को सुरक्षा बलों ने एक पाकिस्तानी घुसपैठिए को ढेर कर दिया। अधिकारियों के मुताबिक, बीएसएफ के जवान को दोपहर करीब एक बजे चेक फकीरा इलाके में एक सीमा चौकी पर एक घुसपैठिए का पता चला और उसे समर्पण करने को कहा गया। उन्होंने बताया कि समर्पण की बार-बार दी गई चेतावनी को घुसपैठिये द्वारा अनसुना किये जाने के बाद जवानों ने उसे बाड़ के निकट ढेर कर दिया। हालांकि, शव अभी तक बरामद नहीं किया गया।

हड़ताल से आम जनजीवन पर असरः 26 जनवरी पर अलगाववादी समूहों की हड़ताल से कश्मीर में शनिवार को आम जनजीवन प्रभावित रहा। कश्मीर मुद्दे का जल्द समाधान किये जाने की मांग को लेकर अलगाववादी समूहों ने लोगों से गणतंत्र दिवस को ‘‘काला दिवस’’ के रूप में मनाने के लिए कहा था। अधिकारियों ने बताया कि श्रीनगर में दुकानें, कार्यालय, पेट्रोल पंप और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे जबकि सार्वजनिक परिवहन सेवा बाधित रही। गणतंत्र दिवस पर हड़ताल के प्रभाव को स्पष्ट रूप से देखा गया। कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए थे।

मोबाइल इंटरनेट सेवा निलंबितः गणतंत्र दिवस पर ऐहतियात के चलते पूरे कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित रहीं। हालांकि, मोबाइल फोन सेवाएं सामान्य रूप से चालू रहीं। एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, घाटी में 26 जनवरी के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए। इसी क्रम में मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को तड़के ही निलंबित कर दिया गया था। हालांकि, मोबाइल फोन सेवाएं जो यहां समारोह के दौरान निलंबित रहती थीं, वह सामान्य रूप से चलती रहीं। मोबाइल फोन एवं सेवाओं को बंद रखने के कदम 2005 से नियमित तौर पर उठाए गए हैं, लेकिन कुछ मौकों पर अधिकारियों ने ये कदम नहीं भी उठाए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App