ताज़ा खबर
 

गौरव आर्या ने पाकिस्तानी पैनलिस्ट को लताड़ा, कहा- प्लंबर है ये आदमी, पाकिस्तान को बना दिया गाली

रिपब्लिक भारत पर डिबेट के दौरान पैनलिस्ट गौरव आर्या ने पाकिस्तानी पैनलिस्ट को लताड़ते हुए कहा कि जिसे आप लोग इंजीनियर-इंजीनियर कह रहे हैं, वह इंजीनियर नहीं प्लंबर है।

BJP, Congress, Gaurav Arya रिटायर्ड मेजर गौरव आर्या ( सोर्स – एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

रिपब्लिक भारत पर डिबेट के दौरान पैनलिस्ट गौरव आर्या ने पाकिस्तानी पैनलिस्ट को लताड़ते हुए कहा कि जिसे आप लोग इंजीनियर-इंजीनियर कह रहे हैं, वह इंजीनियर नहीं प्लंबर है। गौरव आर्या ने कहा कि 14 अगस्त को पाकिस्तान बना और 15 अगस्त को हिंदुस्तान आजाद हुआ। दोनों बातों में फर्क है। बांग्लादेशियों के साथ पाकिस्तानियों ने ऐसा व्यवहार किया कि आज पाकिस्तानी एक गाली हो गया है। गौरव आर्या ने पाकिस्तानी रक्षा विशेषज्ञ कमर चीमा से कहा कि पाकिस्तानी विदेश में अपना पासपोर्ट छुपाते हैं और कहते हैं कि हम इंडियन हैं। गौरव आर्या ने कहा कि आप भले हमारे चैनल पर आकर कुछ भी कहें लेकिन आप सच जानते हैं कि दुनिया में आपका करैक्टर कैसा है? आपको लोग किस तरह जानते हैं?

बता दें कि शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी बांग्लादेश के ढाका में बंगबंधु इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस सेंटर में बंगबंधु- बापू संग्रहालय के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल हुए। आज पीएम मोदी ने कहा कि भारत बहुत खुश है कि मेड इन इंडिया (COVID-19) टीके बांग्लादेश के हमारे भाइयों और बहनों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे हैं। पीएम ने कहा, ‘हमें याद रखना चाहिए कि हमने व्यापार और वाणिज्य के क्षेत्र में समान अवसर प्राप्त किए हैं, लेकिन साथ ही, हमारे सामने आतंकवाद जैसे खतरे भी हैं। इस प्रकार के अमानवीय कृत्यों के पीछे के विचार और शक्तियाँ अभी भी सक्रिय हैं। हमें उनका मुकाबला करने के लिए सतर्क और एकजुट रहना चाहिए।’


मोदी ने कहा कि दोनों राष्ट्रों के पास भविष्य के लिए लोकतंत्र की दृष्टि और शक्ति है। इस क्षेत्र के लिए यह आवश्यक है कि भारत और बांग्लादेश एक साथ प्रगति करें। इसीलिए भारतीय और बांग्लादेशी सरकारें इस दिशा में सार्थक प्रयास कर रही हैं।

पीएम ने कहा, ‘मैं बांग्लादेश में भाइयों और बहनों को गर्व के साथ याद दिलाना चाहूंगा, बांग्लादेश की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष में शामिल होना मेरे जीवन की पहली गतिविधियों में से एक था। जब मैं और मेरे साथियों ने बांग्लादेश की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था, तब मैं 20-22 साल का रहा होगा।’

पीएम मोदी ने कहा कि भारत और बांग्लादेश के बीच संबंधों के 50 साल पूरे होने पर, मैं बांग्लादेश के 50 उद्यमियों को भारत आने और अपने स्टार्ट-अप और इनोवेशन इकोसिस्टम में शामिल होने और अपने उद्यम पूंजीपतियों से मिलने के लिए आमंत्रित करना चाहूंगा।

Next Stories
1 बांग्लादेशी युवाओं के बीच बिना मास्क नरेंद्र मोदी, सोशल मीडिया पर लोग कर रहे सवाल
2 हमारी सरकार में केवल मौलवियों को नहीं मिलेगा भत्ता, बोले सुधांशु त्रिवेदी, टीएमसी सांसद ने दिया जवाब
3 बंगालः मतदान से एक दिन पहले बांकुरा टीएमसी ऑफिस में विस्फोट, भाजपा बोली- बना रहे थे बम
ये पढ़ा क्या?
X