शिवसेना परमबीर को बचा रही? सवाल पर बोले नेता- गौरव भाटिया उस पर एक्शन की मांग करो, तुम वकील भी हो

केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने अदालत को बताया कि एंटीलिया मामले में गिरफ्तार किए गए सचिन वाजे एजेंसी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं।

shivsena, maharashtra
शिवसेना नेता किशोर तिवारी।(ANI)।

रिपब्लिक भारत पर डिबेट के दौरान एंकर अर्नब गोस्वामी ने शिवसेना प्रवक्ता किशोर तिवारी से पूछा कि सचिन वाजे के गुनाहों का हिसाब किताब कौन रखता था? एंकर ने पूछा, ‘आप लोग आरोप लगा रहे हैं कि परमबीर सिंह को बीजेपी बचाने की कोशिश कर रही है। अरे वह तो आज भी महाराष्ट्र सरकार के अधीन काम कर रहा है?’ इस पर शिवसेना प्रवक्ता किशोर तिवारी ने बीजेपी के गौरव भाटिया से कहा, ‘तुम परमबीर पर एक्शन की मांग करो।’ प्रवक्ता ने कहा कि गौरव भाटिया तुम वकील हो समझदार आदमी हो। बोलो परमबीर चोर है।

जवाब में बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि शिवसेना के दांत नहीं थे और उन्होंने राजनीतिक अखरोट तोड़ने की कोशिश की। गौरव भाटिया ने कहा कि अभी भी मुझे वह दिन याद है जब किस तरह वाजे अर्नब के घर में घुस गया था। सचिन वाजे पर शिवसेना-एनसीपी का हाथ है। गौरव भाटिया ने चुनौती देते हुए कहा कि उद्धव ठाकरे को बताना चाहिए कि यह राकेट क्यों चल रहा था? बता दें कि मुंबई पुलिस के निलंबित अधिकारी सचिन वाजे को 3 अप्रैल तक के लिए राष्ट्रीय जांच एजेंसी की हिरासत में भेजा गया है।

केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने अदालत को बताया कि एंटीलिया मामले में गिरफ्तार किए गए सचिन वाजे एजेंसी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं। इस संबंध में जांच एजेंसी ने अदालत से सचिन वाजे की हिरासत बढ़ाई जाने की मांग की।


जांच एजेंसी ने कोर्ट से कहा कि वाजे के पास से एजेंसी को 62 जिंदा कारतूस मिले हैं। इसलिए सचिन वाजे की 30 दिन की हिरासत एजेंसी को और दी जाए।

माना जा रहा है कि एजेंसी ने सचिन वाजे की हिरासत इसलिए भी मांगी है जिससे कि जांच एजेंसी उन मास्टरमाइंड तक पहुंच सके जो कि इस पूरे मामले में साजिश रच रहे थे।

एनआईए ने सचिन वाजे के डीएनए सैंपल भी जमा कर लिए हैं और इनका मिलान उन सैंपल से किया जा रहा है जो कि फॉरेंसिक टीम ने लग्जरी गाड़ियों से बरामद किए थे।

एजेंसी के मुताबिक वाजे ने 9 से 10 वाहन इस्तेमाल किए थे। तीन वाहन ऐसे भी हैं जिन्हें की जांच एजेंसी ने अब तक जब्त नहीं किया है। पुलिस को अब तक वह वाहन नहीं मिला है जिसमें मनसुख हीरेन की हत्या की गई थी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।