ताज़ा खबर
 

जब अर्नब पूछने लगे, क्या ममता बनर्जी ने बनाई है कोरोना वैक्सीन? प्रवक्ता के जवाब पर मुस्कराने लगे

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर केंद्र से कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए वैश्विक वैक्सीन निर्माताओं से "जल्दी से टीके आयात" करने का आग्रह किया है।

EMgla<

रिपब्लिक भारत पर डिबेट के दौरान एंकर अर्नब गोस्वामी पैनलिस्ट से कहने लगे कि सीएम ममता कोरोना और वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी को दोष दे रही हैं। बंगाल में मार्केट में 250 रुपए में कोरोना वैक्सीन मिल रही है। ये वैक्सीन किसने बनाई केंद्र सरकार ने न? अर्नब पूछने लगे कि ममता बनर्जी ने कौन सी वैक्सीन बनाई है? जवाब में पैनलिस्ट ने कहा कि तो क्या बीजेपी ने ये वैक्सीन तैयार की है? इसके बाद अर्नब मुस्कुराने लगे।

मालूम हो कि ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर केंद्र से कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए वैश्विक वैक्सीन निर्माताओं से “जल्दी से टीके आयात” करने का आग्रह किया है। बनर्जी ने मोदी को यह भी सुझाव दिया कि महामारी से लड़ने के लिए वैश्विक कंपनियों को भारत में फ्रंचाइजी खोलने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। सीएम ने लिखा, “आप जानते हैं कि विशेषज्ञों के अनुसार, टीकाकरण अब कोविड -19 महामारी का असली मारक है। हालांकि, ऐसा लगता है कि देश में टीकों का उत्पादन (और इसलिए आपूर्ति और वितरण) बड़े पैमाने पर लोगों की भारी जरूरतों के संदर्भ में बेहद अपर्याप्त है।”

बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल की आबादी करीब 10 करोड़ है और देश में करीब 140 करोड़ लोग हैं। ममता बनर्जी ने लिखा, “रिपोर्ट बताती है कि विश्व स्तर पर, अब कई [Covid वैक्सीन] निर्माता हैं। वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों की सहायता से, उन प्रतिष्ठित और प्रामाणिक निर्माताओं की पहचान करना संभव है जिनकी अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा और विश्वसनीयता है, और हमारे लिए दुनिया के विभिन्न हिस्सों से टीकों का तेजी से आयात करना संभव है। मैं आपसे बिना किसी और देरी के इस प्रयास को शुरू करने का आग्रह करती हूं। टीकों का आयात आज सर्वोपरि है।”

उन्होंने कहा, “इसके अलावा, इस पर भी विचार किया जा सकता है कि क्या हम दुनिया की कंपनियों को अपने देश में फ्रेंचाइजी खोलने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।” बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल वैक्सीन निर्माण के लिए किसी भी निर्माण/फ्रेंचाइजी संचालन के लिए जमीन और समर्थन देने के लिए तैयार है।

बनर्जी ने पिछले हफ्ते भी प्रधानमंत्री को पत्र लिखा था और मांग की थी कि केंद्र रोजाना कम से कम 550 मीट्रिक टन (एमटी) मेडिकल ऑक्सीजन राज्य को आवंटित करे, जिसके बिना, उन्होंने कहा कि अधिक कोविड रोगियों को अपनी जान गंवानी पड़ सकती है।

Next Stories
1 क्या आ चुका है कोरोना की दूसरी लहर का पीक? केस कम हुए लेकिन जल्द नहीं खत्म होगा संकट
2 पश्चिम बंगाल: हिंसा प्रभावितों से मिले राज्यपाल धनखड़, जज्बाती हो महिलाएं पैरों में जा गिरीं, फूट-फूट कर रोईं, बयां किया दर्द
3 UP: चित्रकूट जेल में गैंगवॉर! बंदी ने फायरिंग में दो कैदियों को उड़ाया, पुलिस ऐक्शन में खुद भी ढेर
ये  पढ़ा क्या?
X