आर्यन खान की गिरफ़्तारी में धर्म का एंगल! अर्नब के शो में अतीक उर रहमान और फिल्ममेकर इंद्रजीत लंकेश में वार-पलटवार

आर्यन खान को लेकर अंग्रेजी न्यूज चैनल रिपब्लिक पर एक डिबेट हुई, जिसमें इस गिरफ्तारी पर धर्म के एंगल पर भी बातचीत होने लगी।

Aryan Khan
अब 13 तारीख को आर्यन की जमानत याचिका पर सुनवाई होगी और उन्हें 3 और दिन आर्थर रोड जेल में बिताने होंगे। (Source: Instagram)

बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की मुसीबतें लगातार बढ़ रही हैं। 11 अक्टूबर को सेशन कोर्ट में होने वाली सुनवाई की तारीख बदलकर अब 13 अक्टूबर हो गई है।

यानी अब 13 तारीख को आर्यन की जमानत याचिका पर सुनवाई होगी और उन्हें 3 और दिन आर्थर रोड जेल में बिताने होंगे।

आर्यन खान को लेकर अंग्रेजी न्यूज चैनल रिपब्लिक पर एक डिबेट हुई, जिसमें इस गिरफ्तारी पर धर्म के एंगल पर भी बातचीत होने लगी। एंकर अर्नब गोस्वामी के इस शो में इस्लामी विद्वान अतीक उर रहमान और फिल्ममेकर इंद्रेश में वार-पलटवार हो गया।

दरअसल डिबेट में चर्चा हो रही थी कि आर्यन केस में मुस्लिम कार्ड क्यों खेला जा रहा है? ऐसा क्यों कहा जा रहा है कि एनसीबी के पास जांच है, इसलिए मुस्लिमों को टारगेट किया जा रहा है?

इस पर फिल्ममेकर इंद्रजीत लंकेश ने कहा कि ये मुद्दा हिंदू और मुस्लिम कार्ड का नहीं है। ये नारको टेररिज्म का मुद्दा है, जिसकी तस्वीर आप लोग क्यों नहीं देख रहे हैं?

उन्होंने कहा कि ये बेहद आश्चर्यजनक और दुखी करने वाला है कि जिस तरीके का आपका बैकग्राउंड है, उसमें आप मुस्लिम कार्ड लेकर आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अगर आप इतिहास में पीछे जाएं, जब अफजल गुरू और मकबूल भट्ट ने संसद पर हमला किया था, तब भी कुछ लोगों ने उनका समर्थन किया था। इस मुद्दे पर जेएनयू में एक डिबेट हुई थी, जिसका टाइटल था कि अफजल गुरू एक आतंकी था या शहीद था?

उन्होंने ये भी कहा कि जब अजमल कसाब को रंगे हाथ पकड़ा गया था, तब भी कुछ लोग उसके समर्थन में आ गए थे।

फिल्ममेकर इंद्रजीत लंकेश ने कहा कि आप लोगों को तो फिल्म स्टार सुनील दत्त से सीख लेना चाहिए, जब संजय दत्त आरोपी थे, तो उन्होंने संजय को मलेशिया से वापस आने के लिए कहा था और सरेंडर करने के लिए कहा था। एक पिता के रूप में उनकी सराहना करनी चाहिए।

लंकेश ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति रंगे हाथ पकड़ा जाता है, तो उसे पुनर्वास केंद्र भेजा जाना चाहिए और उनकी काउंसलिंग करनी चाहिए। आपको समस्या की जड़ में जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जब मोहम्मद अजहरुद्दीन इंडिया के कैप्टन बने, तब आपने सवाल नहीं उठाए, जबकि वह मैच फिक्सिंग के आरोपी थे। लेकिन ये बेहद दुखी करने वाला है कि अब आप हिंदू और मुस्लिम कार्ड खेल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मैं समीर वानखेड़े की सराहना करता हूं क्योंकि वह अपनी ड्यूटी कर रहे हैं, लेकिन उनको धर्म का कार्ड खेलकर टारगेट किया जा रहा है। ये बात दुखी करने वाली है।

बता दें कि समीर वानखेड़े मुंबई में NCB के जोनल डायरेक्टर हैं और 2008 बैच के आईआरएस अधिकारी हैं। आर्यन खान समेत फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े तमाम ड्रग्स केस का खुलासा उन्होंने किया है। NCB से पहले वह नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी में थे और वह एयर इंटेलिजेंस यूनिट में भी सेवाएं दे चुके हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट