ताज़ा खबर
 

किसानों को डीजल देने से किया इनकार, अन्नदाताओं ने लगा दिया डीजल का ही लंगर, वीडियो वायरल

 गणतंत्र दिवस पर समानांतर परेड निकालने के लिए दिल्ली आ रहे किसानों को रोकने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश और हरियाणा में कुछ जगहों पर पंप मालिकों ने उन्हें डीजल देने से मना किया तो अन्नदाताओं ने डीजल का ही लंगर लगा दिया।

किसानों का ट्रैक्टर मार्च (फोटो सोर्स : ट्विटर/@Man_shergill)

गणतंत्र दिवस पर समानांतर परेड निकालने के लिए दिल्ली आ रहे किसानों को रोकने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाए जा रहे हैं। उत्तर प्रदेश और हरियाणा में कुछ जगहों पर पंप मालिकों ने उन्हें डीजल देने से मना किया तो अन्नदाताओं ने डीजल का ही लंगर लगा दिया। अब सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो रहा है।

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के पोस्ट होने के बाद लोग तरह-तरह से रिएक्ट कर रहे हैं। एक व्यक्ति ने लिखा, ये लोग उस कौम से हैं, जिन्होंने इंग्लैंड जाकर बदला लिया था। ये तो फिर भी दिल्ली है। एक अन्य ने लिखा, श्रीमान जी ये किसान हैं। ये वही हैं जो नदी की धारा को मोड़ सकते हैं। इन्हें किसी भी तरीके से रोकना संभव नहीं है। एक व्यक्ति ने दो कदम आगे बढ़ते हुए लिखा, तू डाल डाल तो हम पात-पात। इन पंप मालिकों को भी याद रखा जाएगा।

दिल्ली में 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड की तैयारियों को लेकर किसान संगठनों ने पूरी ताकत लगा दी है। पंजाब और हरियाणा से काफी संख्या में ट्रैक्टर दिल्ली बॉर्डर पर पहुंच चुके हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। किसान अपने साथ राशन और अन्य जरूरी सामान लेकर सिंघु और टीकरी बॉर्डर पहुंच रहे हैं। हालांकि पंजाब में पंप मालिक मुफ्त में किसानों को तेल मुहैया करा रहे हैं। लेकिन यूपी और हरियाणा में कुछ जगहों पर उन्हें डीजल देने से मना किया जा रहा है।

ट्रैक्टर परेड में बाधा डालने के लिए गाजीपुर में पुलिस ट्रैक्टर मालिकों और चालकों को पाबंद कर रही है। उन्हें नोटिस देकर 25 और 26 में कहीं भी मूवमेंट नहीं करने के लिए बांड भरवा रहे हैं। सुहवल में पुलिस ने किसानों को डीजल नहीं देने का आदेश पेट्रेाल पंपों पर चस्पा करवा दिया। रविवार को पूरे दिन पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रालियों की जांच भी की।

पुलिस ने वाराणसी-आजमगढ़ मार्ग पर बड़ी संख्या में ट्रैक्टर-ट्राली को सड़क के किनारे खड़ा करा दिया। देर शाम उन्हें वाहन लेकर वापस घर भेज दिया गया। उनसे कहा गया कि तीन दिनों तक ट्रैक्टर का संचालन सड़क पर न करें। किसान नेता राकेश टिकैत ने सरकारों के इस कदम की निंदा करते हुए कहा, किसान इस तरह के हरकतों से डरने वाले नहीं हैं। 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड निकलकर ही रहेगी।

Next Stories
1 ‘Tandav’ कास्ट, डायरेक्टर की जीभ काटने वालों को 1 करोड़ देंगे ईनाम- करणी सेना के नेता का बयान
2 महाराष्ट्र में किसान आंदोलन के पीछे विपक्ष, पूर्व सीएम फडणवीस बोले- यहां कोई समर्थन नहीं
3 ‘जयश्री राम’ पर विवादः PM के सामने हुआ मेरा अपमान, बंगाल न बनने दूंगी गुजरात- बोलीं ममता; योगी ने कहा- नहीं कर रहे किसी को मजबूर
ये पढ़ा क्या?
X