ताज़ा खबर
 

पाक से आए शरणार्थियों ने कहा, 70 साल बाद हुआ इंसाफ

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त किए जाने के बाद पश्चिमी पाकिस्तान से आए शरणार्थी, वाल्मीकि और गुरखा आदि समुदाय के लोग अब जम्मू कश्मीर में स्थानीय चुनाव में वोट डालने, जमीन खरीदने एवं नौकरियों के लिए आवेदन करने के पात्र हो गए हैं। वे चुनाव भी लड़ सकते है।

जम्मू | Updated: November 29, 2020 6:20 AM
जम्मू-कश्मीर में विकास की उम्मीद के साथ व्यापार की तरफ बढ़े कदम।

जम्मू कश्मीर में जिला विकास परिषद के चुनाव एवं पंचायत उपचुनाव के लिए शनिवार को मतदान के दौरान मतदान केद्रों पर लोगों में भारी उत्साह दिखा। उन्हें लगता है कि उनके साथ इंसाफ हुआ है।

जम्मू के बाहरी इलाके के अखनूर प्रखंड के कोट घारी में एक मतदान केंद्र के बाहर कतार में खड़ी पश्चिम पाकिस्तान शरणार्थी समुदाय की युवती सुजाती भारती ने कहा, ‘हमने समानता, न्याय एवं आजादी जैसे शब्द सुने हैं और आज हम इन शब्दों के असली मायने महसूस कर रहे हैं।’ उसने विशेष दर्जा हटाने के केंद्र के फैसले के लिए उसे धन्यवाद दिया और कहा कि उसके समुदाय के लोग 70 साल के बाद स्थानीय चुनाव में अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर रहे हैं।

भारती ने कहा कि वह स्थायी निवासी के रूप में कतार में मुक्त महसूस कर रही है। उसने कहा कि आखिरकार सात दशक के लंबे संघर्ष के बाद न्याय मिला। संसदीय चुनाव छोड़कर ये शरणार्थी पिछले साल तक जम्मू कश्मीर में विधानसभा, पंचायत और शहरी स्थानीय निकाय चुनाव में मतदान से वंचित थे।

पांच अगस्त 2019 को केंद्र ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त कर दिया था और उसे जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया था। इसके बाद सरकार ने कई कानून लागू किए जिनमें जमीन और नागरिकता से जुड़े कानून भी शामिल हैं। अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त किए जाने के बाद पश्चिमी पाकिस्तान से आए शरणार्थी, वाल्मीकि और गुरखा आदि समुदाय के लोग अब जम्मू कश्मीर में स्थानीय चुनाव में वोट डालने, जमीन खरीदने एवं नौकरियों के लिए आवेदन करने के पात्र हो गए हैं। वे चुनाव भी लड़ सकते है।

अन्य मतदाता बिशन दास (67) ने कहा कि वह अतीत को नहीं याद करना चाहते हैं लेकिन उन्हें उज्ज्वल भविष्य की आस है जिसमें उनके पोते-पोतियां, नाती-नातिनें बाहर जाए बिना नौकरियां पा सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘हम सशक्त हो गए। पहले कोई भी वोट मांगने के लिए हमारे यहां नहीं आया करता था। आज हर उम्मीदवार तीन बार दरवाजे पर आया।’ विभाजन के बाद पाकिस्तान से आए पश्चिमा पाकिस्तान के ज्यादातर शरणार्थी आर एस पुरा, अखनूर, सांबा, हीरानगर और जम्मू में बस गए। इस केंद्रशासित प्रदेश में डेढ़ लाख से अधिक शरणार्थी हैं।

Next Stories
1 जम्मू कश्मीर : शांति से निपटे पहले चरण में 52% पड़े वोट, केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद पहली बार जिला विकास परिषद के चुनाव
2 सीमा पर तनाव के बीच चीनी कंपनी के कार्यक्रम में शामिल हुए CDS चीफ बिपिन रावत
3 भाजपा-AIMIM आमने सामने आए तो ओवैसी ने अपना प्रवक्ता नहीं भेजा, डिबेट में बोले रोहित सरदाना
ये पढ़ा क्या?
X