ताज़ा खबर
 

बागी शत्रुघ्न सिन्हा की बीजेपी से फिर बढ़ीं नजदीकियां, बोले- वोट क्या, पार्टी के लिए जान भी कुर्बान!

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही मोदी सरकार ने शत्रुघ्न सिन्हा की सुरक्षा बढ़ाकर वाई कैटगरी की कर दी थी। तब से सिन्हा ने मोदी सरकार के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया है।

Author Updated: July 20, 2018 10:16 AM
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटों तेजस्वी प्रसाद यादव और तेज प्रताप के साथ भाजपा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा। फोटो- पीटीआई

पूर्व केंद्रीय मंत्री और पटना साहिब से बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की लंबे समय तक पार्टी से तनातनी के बाद फिर से नजदीकियां बढ़ने लगी हैं। सिन्हा ने आज (19 जुलाई) कहा कि वो अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ संकट की घड़ी में पार्टी के साथ खड़े हैं। अपने बयानों और ट्वीट से अक्सर मोदी सरकार पर निशाना साधने वाले शॉटगन ने कहा, “जब तक बीजेपी में हूं, बीजेपी के लिए जान भी दे देंगे। मुसाबत की घड़ी में पार्टी के साथ रहूंगा, अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ वोट करूंगा। इस मुसीबत में पार्टी के साथ कदम से कदम मिलाकर चलूंगा।” मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि पार्टी ने मुझे छोड़ा नहीं, मैंने पार्टी छोड़ी नहीं, इसलिए पार्टी के सभी व्हिप को मानेंगे और उस पर अमल करेंगे।

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही मोदी सरकार ने शत्रुघ्न सिन्हा की सुरक्षा बढ़ाकर वाई कैटगरी की कर दी थी। तब से सिन्हा ने मोदी सरकार के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया है। इससे पहले राजद और कांग्रेस से उनकी नजदीकियां बढ़ने की खबरें आई थीं। आप नेताओं के साथ भी उनकी नजदीकियां हाल के दिनों में बढ़ी थी। तब उन्होंने अरविंद केजरीवाल की तारीफ की थी और एलजी विवाद में उनका पक्ष लिया था। उन्होंने तो बीमार लालू प्रसाद यादव से मुलाकात भी की थी और उनके बेटे तेजस्वी यादव की तारीफ में कसीदे भी पढ़े थे। तब से कयास लगाया जा रहा था कि शत्रुघ्न सिन्हा जल्द ही बीजेपी को अलविदा कह सकते हैं लेकिन उन्होंने अविश्वास प्रस्ताव पर अपना स्टैंड जाहिर कर राजनीतिक तौर पर सबको चौंका दिया है।

मानसून सत्र के पहले ही दिन टीडीपी के अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा अध्यक्ष ने मंजूरी दे दी थी। उसके प्रस्ताव पर शुक्रवार (20 जुलाई) को लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाप अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा और वोटिंग होगी। हालांकि, बीजेपी सदन में विश्वास मत परीक्षण जीत लेने का दावा कर रही है क्योंकि उसके पास सदन में पर्याप्त संख्या बल है। बीजेपी जादुई आंकड़े 268 से ज्यादा सदस्यों के समर्थन का दावा कर रही है। बीजेपी मौजूदा लोकसभा में 535 सदस्यों में से 312 के समर्थन होने का दावा कर रही है। इनमें से 274 तो अकेले बीजेपी की ही सांसद हैं जबकि बहुमत के लिए मात्र 268 वोट की ही जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 CBI को लगा डेढ़ करोड़ का चूना, बिजली कंपनी के गड़बड़झाले में फंसी देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी
2 मोदी की बचेगी, पर अविश्‍वास प्रस्‍ताव के चलते जा चुकी है इन प्रधानमंत्रियों की कुर्सी!
3 New 100 Rupee Note: RBI जारी कर रहा है 100 का नया नोट, जानिए इसकी खासियत
ये पढ़ा क्‍या!
X