ताज़ा खबर
 

फ्लैग मीटिंग चाहता है चीन, सेना कर रही है विचार

नई दिल्ली। लद्दाख क्षेत्र में बने गतिरोध के बीच चीनी सेना ने फ्लैग बैठक की पेशकश की है। वहीं भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा के उस इलाके पर चौकसी बनाए हुए हैं, जहां चीनी सैनिकों ने पिछले 10 दिन से घुसपैठ कर रखी है। सेना के सूत्रों ने मंगलवार को यहां बताया कि चीन ने […]

Author September 24, 2014 9:13 AM

नई दिल्ली। लद्दाख क्षेत्र में बने गतिरोध के बीच चीनी सेना ने फ्लैग बैठक की पेशकश की है। वहीं भारतीय सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा के उस इलाके पर चौकसी बनाए हुए हैं, जहां चीनी सैनिकों ने पिछले 10 दिन से घुसपैठ कर रखी है।

सेना के सूत्रों ने मंगलवार को यहां बताया कि चीन ने फ्लैग बैठक की अपील की है। उसके प्रस्ताव पर गौर किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में चीनी सैनिकों की गतिविधियों पर सेना नजर रखे हुए है। आसपास के इलाकों में तैनात सेना की टुकड़ियों को भी सतर्क कर दिया गया है। पिछले 10 दिन में दो फ्लैग बैठकें हो चुकी हैं। लेकिन संकट का समाधान नहीं हुआ है।

इस गतिरोध की पृष्ठभूमि में सेना प्रमुख दलबीर सिंह सुहाग ने भूटान की अपनी चार दिवसीय यात्रा को सोमवार को रद्द कर दिया। चीनी सैनिकों ने क्षेत्र में अपने तंबू गाड़ लिए हैं। चीन के हेलिकाप्टरों को सैनिकों के लिए फूड पैकेट गिराते देखा गया है। इन हेलिकाप्टरों ने हालांकि भारतीय वायु सीमा का उल्लंघन नहीं किया। फूड पैकेट को बाद में जन मुक्ति सेना (पीएलए) के कर्मियों ने जमा किया।

इस क्षेत्र में रविवार को उस समय तनाव पैदा हो गया था, जब अपने क्षेत्र में एक सड़क निर्माण कर रहे कुछ चीनी श्रमिक भारतीय इलाके में घुस आए। उन्होंने दावा किया कि उन्हें भारतीय क्षेत्र के पांच किलोमीटर भीतर तिबले तक निर्माण कार्य करने के आदेश मिला है।

पिछले साल दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) में चुमार क्षेत्र एक पखवाड़े तक गतिरोध का बिंदु बना रहा था। उस समय चीन ने भारतीय क्षेत्र में ओवरहेड बंकर बनाने पर आपत्ति की थी। अप्रैल-मई 2013 में डीबीओ में आयोजित फ्लैग बैठक में हुए समझौते से वह गतिरोध खत्म हुआ था। बाद में भारत ने चुमार क्षेत्र में कुछ ओवरहेड बंकरों को हटा लिया था। इस साल सर्दियों में चीनी सैनिकों ने घोड़ों पर सवार होकर इलाके में घुसने की कोशिश की थी। इस इलाके में चीनी सैनिक अक्सर घुसपैठ की कोशिश करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App