ताज़ा खबर
 

जनसत्ता युवा शक्ति: एनिमेशन क्षेत्र में भी है सुनहरा भविष्य

अब बॉलीवुड भी फिल्मों के निर्माण में एनीमेशन तकनीक का खूब सहारा ले रहा है फिर वह चाहे सुपरहिट फिल्म ‘बाहुबली’ हो या फिर शाहरुख खान की नई फिल्म ‘जीरो’ हो। बच्चों के लिए बनने वाली कार्टून फिल्में और सीरियल पूरी तरह से इसी एनीमेशन उद्योग की देन हैं। एनीमेशन उद्योग का विस्तार लगातार जारी है और इसका परिणाम है कि इस क्षेत्र में काम कर रहे कंप्यूटर एप्लीकेशन, विज्ञान और अभियांत्रिकी के विद्यार्थियों का भविष्य उज्ज्वल है।

Author December 20, 2018 4:51 AM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर (फाइल)

योग्यता
एनिमेशन के क्षेत्र में एक कुशल पेशेवर बनने के लिए प्रशिक्षण बेहद जरूरी है। 12वीं कक्षा पास करने के बाद एनिमेशन में डिप्लोमा या स्नातक की डिग्री प्राप्त किया जा सकती है। वहीं, स्नातकोत्तर डिग्री के लिए किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए, लेकिन आर्ट्स विषय में स्नातक होने पर वरीयता दी जाएगी। हालांकि, कुछ संस्थानों में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में दाखिला लेने के लिए आर्किटेक्चर, टेक्नोलॉजी एवं इंजीनियरिंग या फाइन आर्ट्स में स्नातक होना जरूरी है। इसके अलावा इस क्षेत्र में आने के लिए स्केचिंग स्किल और कम्प्यूटर की आधारभूत जानकारी होनी भी जरूरी है।

पाठ्यक्रम
’ एडवांस डिप्लोमा इन 3डी एनिमेशन
’ एडवांस डिप्लोमा इन 3डी एनिमेशन एंड वीएफएक्स
’ एडवांस डिप्लोमा इन एनिमेशन एंड विजुअल इफेक्ट्स
’ बीए एनिमेशन एंड ग्राफिक डिजाइन
’ बीएससी एनिमेशन एंड मल्टीमीडिया
’ सर्टिफिकेट कोर्स इन 3डी एनिमेशन
’ डिप्लोमा इन 3डी एनिमेशन एंड विजुअल इफेक्ट
’ पोस्ट ग्रेजुएशन इन एनिमेशन
’ एमएससी एनिमेशन एंड मल्टीमीडिया

यहां मिलेगा अवसर
एनिमेशन एक ऐसा क्षेत्र है, जहां युवाओं के लिए काम के बेशुमार अवसर हैं। आधुनिक युग में एनिमेशन का क्षेत्र भी बढ़ता जा रहा है। पहले केवल एनिमेशन या कार्टून कैरेक्टर बच्चों के मनोरंजन के लिए होते थे लेकिन आज विज्ञापनों में भी 3डी एनिमेशन का इस्तेमाल होने लगा है। बड़े पर्दे पर भी 3डी एनिमेशन फिल्में बनने लगी हैं। इससे नौकरी की संभावनाओं का भी विस्तार होने लगा है। विदेशी कंपनियों को भी दक्ष एनिमेटरों की आवश्यकता होती है।
एनिमेशन पेशेवर के रूप में कई तरह से काम किया जा सकता है। आप या किसी एनिमेशन स्टूडियो या कंपनी में विशेषज्ञ के रूप में स्थायी रूप से काम हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा प्रोडशन हाउस में फ्रीलांस एनिमेशन विशेषज्ञ के रूप में काम कर सकते हैं।

वेतनमान
इस क्षेत्र में पैसे की कोई कमी नहीं है। शुरुआत में 25 हजार रुपए प्रतिमाह तक वेतन मिल जाता है। एक-दो साल बाद ही वेतन 30 से 35 हजार रुपए प्रतिमाह तक पहुंच सकता है। अमेरिका, जापान, दक्षिण कोरिया, फिलीपींस में एनिमेशन प्रोजेक्ट का काम काफी महंगा होने के कारण वहां की कंपनियां ऐसे काम बड़ी संख्या में भारत से आउटसोर्स कर रही हैं। इन सबके अलावा कार्टून फिल्मों, फिल्मों, विज्ञापनों आदि के लिए भी काम करके हर महीने लाखों रुपए की कमाई की जा सकती है।

प्रमुख संस्थान
’ राष्ट्रीय डिजाइन संस्थान, गुजरात
’ राष्ट्रीय फिल्म एवं फाइन आर्ट्स संस्थान, कोलकाता
’ एरिना मल्टीमीडिया, दिल्ली, नोएडा, मुंबई
’ माया एकेडमी ऑफ एडवांस सिनेमेटिक्स, यूपी
’ पिकासो एनिमेशन एजुकेशन एंड प्रोडक्शन, दिल्ली

कार्यक्षेत्र
मनोरंजन (फिल्म एंड टेलीविजन), व्यापार, बिक्री, शिक्षा, प्रकाशन, वेब डिजाइनिंग, इंजीनियरिंग, विज्ञापन, पर्यटन, इंटीरियर और फैशन डिजाइनिंग आदि।मनोरंजन जगत में एनीमेशन के विशेषज्ञों की मांग भी इंटरनेट के बढ़ते इस्तेमाल के कारण गुणात्मक वृद्धि कर रही है। एनीमेशन उद्योग का विस्तार लगातार जारी है और इसका परिणाम है कि इस क्षेत्र में काम कर रहे कम्प्यूटर एप्लीकेशन, साइंस और इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों का भविष्य उज्ज्वल है। वे बड़े स्टूडियों, फिल्म निर्माण से जुड़े एनीमेशन विशेषज्ञ और इस क्षेत्र में कार्यरत राष्ट्रीय, बहुराष्ट्रीय कंपनियों में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं। हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय में मास्टर आॅफ कंप्यूटर एप्लीकेशन पाठ्यक्रम के अंतर्गत वेब डिजाइनिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, मल्टीमीडिया टेक्नोलॉजी और वेब इंजीनियरिंग का ज्ञान विद्यार्थियों को दिया जाता है।
– प्रोफेसर नवल किशोर, प्रभारी कंप्यूटर साइंस डिपार्टमेंट, हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App