ताज़ा खबर
 

आरएसएस लेकर आया ‘कुटुंब प्रबोधन’ प्रोजेक्ट, कार्यकर्ताओं को परिवार के साथ ज्यादा समय बिताने पर होगा जोर

संघ के रवींद्र जोशी ने मामले में जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रोजेक्ट के तहत हर परिवार के सदस्य को सप्ताह में एक बार परिवार से मिलना चाहिए और साथ बैठकर भोजन करना चाहिए।

आरएसएस नेता ने कहा कि मीडिया कई बार घटना को बढ़ाचढा कर पेश करता है। (सांकेतिक फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अपने प्रोजेक्ट ‘कुटुंब प्रबोधन’ के तहत लोगों के बीच परिवार के साथ समय देने के विचार को जिंदा रखने की कोशिश के लिए जागरुकता अभियान चलाया है। संघ के रवींद्र जोशी ने मामले में जानकारी देते हुए बताया कि इस प्रोजेक्ट के तहत हर परिवार के सदस्य को सप्ताह में एक बार परिवार से मिलना चाहिए और साथ बैठकर भोजन करना चाहिए। बता दें कि रवींद्र जोशी इस प्रोजेक्ट के सह संयोजक हैं और अर्थशास्त्र के सेवानिवृत्त प्रोफेसर हैं। खबरों के अनुसार संघ ने अपने इस प्रोजेक्ट की शुरुआत देश के सभी प्रांतों में की है। इस दौरान उन्होंने आगे कहा कि संघ के कार्यकर्ता जब भी यात्रा कर रहे हों उन्हें किसी होटल की बजाए अपने सहकर्मियों के घरों में रुकना चाहिए। इसका एक फायदा ये है दोनों को एक दूसरे को बेहतर तरीकें से जानने का मौका मिलेगा। कुटुंब प्रबोधन परिवारिक रिश्तों को और मजबूत करने की दिशा में एक और कदम है।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 16999 MRP ₹ 17999 -6%
    ₹2000 Cashback

उन्होंने मामले में ज्यादा जानकारी देते हुए बताया कि कुटुंब प्रोबोधन बैठने और खाने से कहीं ज्यादा आगे की बात है। वहीं आरएसएस के आखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने कहा कि हम परिवार के सदस्यों के बीच चर्चा करने के विचार को बढ़ावा दे रहे हैं। वैद्य ने आगे कहा कि परिवार के सदस्यों को राजनीति, फिल्म और क्रिकेट के इतर भी बातचीत करनी चाहिए। जैसे देवी-देवताओं, संस्कृति, ड्रामा धर्म या देशभक्ति के बारे में चर्चा की जा सकती है। उन्होंने आगे कहा कि इस दौरान स्मार्टफोन का इस्तेमाल ना करें बल्कि इसे टेबल पर भी ना रखें। इससे पहले हम टीवी और मोबाइल से करीब एक घंटे तक दूर रहने का आइडिया लेकर आए थे। लेकिन अब विचार ये है कि इसे सिर्फ धार्मिक कर्मकांड के रूप में नहीं मनाया जाएगा। बल्कि सहज रूप से समाज में पारिवारिक प्रेम की भावना लाना इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य है। वहीं कई अन्य परियोजनाओं को तरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा। वैद्य ने कहा कि पहले चरण में हम चाहते हैं कि सब परिवार के सदस्य साथ मिलकर बैठें। इसके बाद हमारी कोशिश पड़ोसी परिवार को भी इसमें शामिल करने की होगी।

देखें वीडियो, किसान आंदोलन: आरएसएस नेता ने ही कर रखा है शिवराज सरकार की नाक में दम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App