ताज़ा खबर
 

भोपाल: शेल्‍टर होम में रेप, तीन की मौत! आर्मी का रिटायर्ड जवान गिरफ्तार

भोपाल स्थित एक निजी आश्रय गृह में रहने वालों ने वहां के मालिक पर लंबे समय तक यौन दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। अपने आरोप में उन्होंने कहा कि इस वजह से वहां रहने वाले तीन लोगों की मौत हो गई।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

बिहार और उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश के आश्रय गृह में रहने वालों के साथ यौन दुर्व्यवहार का मामला सामने आया है। मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित एक निजी आश्रय गृह में रहने वालों ने वहां के मालिक पर लंबे समय तक यौन दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया। अपने आरोप में उन्होंने कहा कि इस वजह से वहां रहने वाले तीन लोगों की मौत हो गई। आश्रय गृह में रहने वाले तीन लड़के और दो लड़कियों ने पहले सामाजिक न्याय विभाग में शिकायत की और उसके बाद पुलिस के पास गए। पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर ली है। आश्रय गृह में रहने वाले लोगों की शिकायत के आधार पर 70 वर्षीय मालिक (पूर्व सेना जवान) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

एनडीटीवी के अुनसार, आश्रय गृह में रहने वालों ने आरोप लगाया कि, “यौन उत्पीड़न के बाद अधिक खून बहने की वजह से एक लड़के की मौत हो गई थी। एक दूसरा दीवार पर सिर लगने की वजह से चाेटिल हो गया था, इस वजह से उसकी मौत हो गई। तीसरे को ठंड के दिनों में बाहर में रात बीताने को मजबूर किया गया था, इस वजह से उसकी मौत हो गई।” रिपोर्ट के अनुसार, यह आश्रय गृह विभाग के साथ 1995 से रजिस्टर्ड है और इसे फंड मिल रहा है। 2003 से यहां 42 लड़के और 58 लड़कियां रह रही हैं। पिछले 10 वर्षों से यहां फुल टाईम वार्डन की जगह चार शिक्षक इसकी देखरेख कर रहे हैं। इस पूरे मामले को जानने वाले लोगों का कहना है कि काफी समय पहले शैक्षणिक योग्यता में कमी की वजह से वार्डन को यहां से हटा दिया गया था।

इस घटना पर सामाजिक न्याय विभाग के निदेशक कृष्ण मोहन तिवारी का कहना है कि, “कुछ दिव्यांग छात्र हमारे कार्यालय में दुषाषिए के साथ आए थे। उन्होंने हमें हॉस्टल के मालिक द्वारा किए जा रहे शारीरिक और यौन दुर्व्यवहार के बारे में जानकारी देते हुए एक पत्र दिया। हमने कलेक्टर और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को इस मामले में जांच के लिए पत्र लिखा है।” बता दें कि राज्य के मुख्यमंत्री ने पिछले महीने राज्य में संचालित सभी आश्रय गृहों और अनाथालय की हर महीने जांच के आदेश दिए थे। साथ ही निजी गर्ल्स हॉस्टल के लिए गाइडलाइन बनाने के भी निर्देश दिए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App