ताज़ा खबर
 

यूपी: सीएम योगी से मिलने पहुंचे रेप के आरोपी BJP विधायक, डीजीपी बोले- FIR में नामित आरोपी को गिरफ्तार करेंगे

इस बीच उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि इस मामले में एक टीम का गठन कर दिया गया है जो उन्नाव में इस मामले की जांच कर रही है। एफआईआर में नामित आरोपी को गिरफ्तार जरुर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन से भी पूछा गया है कि किन परिस्थितियों में पीड़िता के पिता की मौत हुई है?

गैंगरेप के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर CM योगी आदित्यनाथ के दफ्तर पहुंचे

गैंगरेप के आरोपी भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर कानून का शिकंजा अब तक नहीं कसा है। इस बीच उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा है कि इस मामले में एक टीम का गठन कर दिया गया है जो उन्नाव में इस मामले की जांच कर रही है। एफआईआर में नामित आरोपी को गिरफ्तार जरुर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जेल प्रशासन से भी पूछा गया है कि किन परिस्थितियों में पीड़िता के पिता की मौत हुई है? जांच के बाद इस पूरे मामले में कार्रवाई की जाएगी। इस मामले मेंअब तक कार्रवाई के नाम पर संबंधित माखी थाने के दारोगा को जहां निलंबित कर दिया गया है, वहीं विधायक के चार समर्थकों की गिरफ्तारी हुई है। इस बीच महिला के साथ गैंगरेप के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की तस्वीरें भी विभिन्न न्यूज चैनलों पर नजर आई हैं। बाहुबली विधायक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दफ्तर पहुंचे थे।

आपको बता दें कि रविवार (08-04-2018) को पीड़िता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के सामने आत्मदाह की कोशिश की थी। पीड़िता का आरोप है कि विधायक के खिलाफ मुकदमा वापस न लेने पर विधायक और उनके करीबियों ने उनके साथ मारपीट की थी। पीड़ित का आरोप था कि विधायक ने अपनी राजनीतिक पहुंच के दम पर उनके पिता को जेल भिजवा दिया था। इस बीच पीड़ित लड़की के पिता की सोमवार (09-04-2018) को मौत हो गई। चिकित्सकों ने इस मौत की वजह पेट दर्द और उल्टी होने की समस्या को बतलाया है।

यह है मामला : पीड़ित लड़की ने बांगरमऊ के बाहुबली विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था। पीड़िता के अनुसार जून 2017 में नौकरी के नाम पर प्रधान की पत्नी उसे विधायक के आवास पर ले गई थी, जहां विधायक और उनके कुछ समर्थकों ने उसके साथ गैंगरेप किया। न्‍याय के लिए दर-दर भटकने पर पीड़िता की कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई। पीड़िता का आरोप है कि विधायक के भाई अतुल और मनोज ने केस दबाने के लिए उसके पिता से मारपीट की, लेकिन जब नहीं मानें तो फर्जी केस में जेल में डलवा दिया। इन सब से आजीज होकर ही नाबालिग लखनऊ पहुंची और सीएम आवास के बाहर केरोसिन डालकर आत्मदाह करने का प्रयास किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App