scorecardresearch

संगरूर, रामपुर, आजमगढ़: तीन लोकसभा सीट, तीनों के उपचुनाव में बड़ा उलटफेर, जानें 7 विधानसभा सीटों पर हुए By Polls के क्‍या रहे नतीजे

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर सपा का दबदबा माना जाता रहा। इस सीट पर 2019 लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने जीत दर्ज की थी। उनके पिता मुलायम सिंह यादव भी इसी सीट से सांसद रह चुके हैं।

Assembly Election 2022| Assembly Election| Assembly Election Result
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन। (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस )

26 जून को पंजाब की एक और यूपी की दो लोकसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आए। इन तीनों सीटों पर बड़ा उलटफेर हुआ है। दरअसल आप की कब्जे वाली पंजाब की संगरुर सीट पर शिरोमणि अकाली दल की जीत हुई है तो वहीं रामपुर और आजमगढ़ लोकसभा सीट पर भाजपा ने अपना कब्जा जमाया है। बता दें कि इससे पहले रामपुर और आजमगढ़ सीट पर सपा का कब्जा रहा था।

रामपुर: यूपी की रामपुर लोकसभा सीट, जिसपर हमेशा आजम खान का दबदबा माना जाता था। इस सीट पर भाजपा प्रत्याशी घनश्याम सिंह लोधी की जीत हुई है। चुनाव आयोग की जानकारी के मुताबिक लोधी को 367397 मत मिले तो वहीं सपा प्रत्याशी असीम रजा को 325205 मत मिले हैं। जीत का अंतर 42,192 मतों का है।

गौरतलब है कि सपा के दिग्गज नेता आजम खान 2019 में रामपुर लोकसभा सीट से सांसद चुने गये थे। उन्होंने भाजपा की उम्मीदवार जया प्रदा को करीब एक लाख वोटों से शिकस्त दी थी। लेकिन 2022 में हुए यूपी विधानसभा में उन्होंने रामपुर सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। ऐसे में उन्हें रामपुर लोकसभा सीट छोड़नी पड़ी थी।

बता दें कि करीब दो साल जेल में रहे आजम खान जमानत मिलने के बाद रामपुर सीट पर होने वाले लोकसभा उपचुनाव के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी। उन्होंने अपने मनपसंद उम्मीदवार को सपा टिकट भी दिलवाया लेकिन नतीजे उनके पक्ष में नहीं रहे।

मालूम हो कि रामपुर लोकसभा सीट मुस्लिम बाहुल्य सीट है। यहां पर 55 फीसदी मतदाता मुस्लिम हैं। वहीं उपचुनाव में आजम खान चुनाव प्रचार की कमान अपने पास रखे हुए थे। रविवार की सुबह जब मतगणना शुरू हुई तो आसिम राजा आगे चल रहे थे लेकिन आखिरी समय में भाजपा ने बाजी मार ली। रामपुर में आसिम राजा की हार को आजम खान की हार के तौर पर देखा जा रहा है।

आजमगढ़: आजमगढ़ लोकसभा सीट पर सपा का दबदबा माना जाता रहा है। इस सीट पर 2019 लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने जीत दर्ज की थी। उनके पिता मुलायम सिंह यादव भी इसी सीट से सांसद रह चुके हैं। 2019 में अखिलेश यादव के सामने भाजपा ने दिनेश लाल यादव को टिकट दिया था लेकिन वो जीत नहीं सके थे।

2019 में भोजपुरी सिनेस्टार दिनेश लाल यादव ‘निरहुआ’ को अखिलेश यादव ने दो लाख 59 हजार 874 वोट से हराया था। लेकिन हाल ही में हुए यूपी विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने करहल विधानसभा सीट चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। इसके बाद उन्होंने आजमगढ़ लोकसभा सीट छोड़ने का फैसला किया।

आजमगढ़ सीट पर जब लोकसभा उपचुनाव हुए तो इस सीट पर भाजपा ने फिर से दिनेश लाल यादव पर दांव लगाया। वहीं सपा ने यादव कुनबे से धर्मेंद्र यादव को मैदान में उतारा। नतीजों में दिनेश लाल यादव ने बड़ा उलटफेर करते हुए सपा के धर्मेंद्र यादव को 8,679 वोटों से शिकस्त दे दी। इस उपचुनाव में दिनेश लाल यादव को 3,127,68 को वोट मिले तो धर्मेंद यादव को 3,040,89 वोट मिले हैं।

संगरुर: पंजाब के विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत पाने के बाद हुए लोकसभा उपचुनाव में आम आदमी पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। बता दें कि संगरुर लोकसभा उपचुनाव में अकाली दल अमृतसर के सिमरनजीत सिंह मान को जीत हासिल हुई है। उन्होंने आम आदमी पार्टी के गुरमेल सिंह को हराया।

बता दें कि संगरूर लोकसभा सीट से आप नेता भगवंत मान दो बार संसद पहुंच चुके हैं। लेकिन इसी साल पंजाब का मुख्‍यमंत्री बनने के बाद उन्‍होंने इस लोकसभा सीट से इस्‍तीफा दे दिया था। जिसके बाद यहां उपचुनाव कराया गया। आप की दबदबे वाली इस सीट पर आम आदमी पार्टी गुरमेल सिंह को हार का सामना करना पड़ा है। उन्हें सिमरनजीत मान ने 5822 मतों से हराया। जहां गुरमेल सिंह को 2,47,332 वोट मिले तो वहीं सिमरनजीत मान को 2,53,154 वोट मिले हैं।

सात विधानसभा सीटों का हाल: 26 जून को तीन लोकसभा सीटों के अलावा सात विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आए। जिसमें दिल्ली की राजिंदर नगर सीट पर आप के दुर्गेश पाठक ने 11,468 वोटों से जीत दर्ज की है। इस उपचुनाव में दुर्गेश पाठक को 40,319 वोट मिले तो उनके निकटतम प्रतिद्वंदी भाजपा के राजेश भाटिया को 28,851 मत मिले।

वहीं झारखंड की मांडर से सत्ताधारी गठबंधन की संयुक्त प्रत्याशी कांग्रेस की शिल्पी नेहा तिर्की ने भाजपा की गंगोत्री कुजूर को कड़े मुकाबले में 23,517 वोटों से हराया। शिल्पी नेहा को 95,062 वोट मिले तो भाजपा की गंगोत्री को 71545 मत मिले।

आंध्र प्रदेश की आत्मकूर सीट पर हुए उपचुनाव में सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार एम. विक्रम रेड्डी ने 82,742 वोटों से अपने निकटतम प्रत्याशी भाजपा के जी भरत कुमार को हराया है। विक्रम रेड्डी को 1,02,241 वोट मिले तो वहीं भरत कुमार को 19,353 वोट मिले।

वहीं त्रिपुरा में चार विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस को एक और भाजपा ने 4 सीटों पर जीत दर्ज की है। इसमें त्रिपुरा की टाउन बारडोवली सीट से भाजपा प्रत्याशी व मुख्यमंत्री मानिक साहा ने जीत हासिल की है। वहीं अगरतला में कांग्रेस प्रत्याशी सुदीप रॉय बर्मन जीते हैं। इसके अलावा जबराजनगर व सूरमा सीट भी भाजपा की झोली में आई है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X