ताज़ा खबर
 

रामजस कॉलेज हिंसा: कारगिल शहीद की बेटी का ABVP के खिलाफ कैम्पेन- तुम्हारे पत्थर शरीर को चोट पहुंचाते हैं, आदर्शों को नहीं

गुरमेहर कौर ने लिखा है, ‘मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हूं। मैं एबीवीपी से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर छात्र मेरे साथ है।'
Author नई दिल्ली | February 25, 2017 14:50 pm
कारगिल में शहीद हुए कैप्टन मनदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने फेसबुक पर कैम्पेन चलाया है। (Photo Source: Facebook)

दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज में हिंसक झड़पों के कुछ दिन बाद लेडी श्रीराम कॉलेज की छात्रा और कारगिल में शहीद हुए जवान की बेटी ने सोशल मीडिया पर एक अभियान शुरू किया है, जिसका नाम है- ‘मैं एबीवीपी से नहीं डरती’। यह अभियान सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। कारगिल में शहीद हुए कैप्टन मनदीप सिंह की बेटी गुरमेहर कौर ने एक तख्ती पकड़ी हुई तस्वीर फेसबुक पर प्रोफाइल तस्वीर के तौर पर लगाई है। इस तख्ती पर लिखा है, ‘मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हूं। मैं एबीवीपी से नहीं डरती। मैं अकेली नहीं हूं। भारत का हर छात्र मेरे साथ है। हैशटैग स्टूडेंट्स अगेंस्ट एबीवीपी।’

गुरमेहर ने अपने फेसबुक स्टेटस में लिखा है, ‘एबीवीपी द्वारा निर्दोष छात्रों पर किया गया निर्मम हमला परेशान करने वाला है और इसे रोका जाना चाहिए। यह हमला प्रदर्शनकारियों पर नहीं था बल्कि यह लोकतंत्र की हर उस धारणा पर हमला था, जो हर भारतीय के दिल के करीब है। यह आदर्शों, नैतिक मूल्यों, स्वतंत्रता और इस देश में जन्मे हर व्यक्ति के अधिकारों पर किया गया हमला था।’ साथ ही गुरमेहर ने लिखा, ‘जो पत्थर तुम फेंकते हो, वह हमारे शरीरों को चोट पहुंचाते हैं लेकिन ये हमारे आदर्शों को चोट नहीं पहुंचा सकते। यह प्रोफाइल तस्वीर डर के ,निरंकुशता के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का मेरा अपना तरीका है।’

विश्वविद्यालय में साहित्य की छात्रा के सहपाठियों और दोस्तों ने इस पोस्ट को साझा किया है। इस पहल के सोशल मीडिया पर वायरल हो जाने के बाद देशभर के विश्वविद्यालयों के बहुत से छात्रों ने इसी तख्ती वाली प्रोफाइल पिक्चर लगा ली है। गुरमेहर की फेसबुक पोस्ट पर अब तक 2100 प्रतिक्रियाएं और 542 टिप्पणियां आ चुकी हैं। इस पोस्ट को 3456 बार साझा किया जा चुका है।

बता दें, रामजस कॉलेज में बुधवार को आइसा और एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बीच भारी हिंसा देखने को मिली थी। यह झड़प ‘विरोध प्रदर्शनों की संस्कृति’ नामक गोष्ठी को संबोधित करने के लिए जेएनयू के छात्रों उमर खालिद और शहला राशिद को बुलाए जाने के कारण हुई थी। कॉलेज प्रशासन ने आरएसएस की छात्र इकाई के विरोध के चलते इसे रद्द कर दिया था।

वीडियो- दिल्ली: रामजस कॉलेज में ABVP-AISA के बीच हिंसक झड़प, हुई मारपीट; जानिए पूरा मामला

वीडियो- रामजस कॉलेज विरोध प्रदर्शन: उमर खालिद का सेमिनार रद्द होने पर भिड़े ABVP, AISA के कार्यकर्ता

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Abu talib
    Feb 25, 2017 at 2:27 pm
    जानवर और इंसान में यह फ़र्क़ है कि जानवर में भावना तो होती है किन्तु विवेक नहीं ! अब जिन लोगों ने मोदी जी द्वारा संकलित 'खोता-दर्शन' का फलसफा पढ़ा है वो लोग क्या बहस कर सकते हैं !
    (0)(0)
    Reply
    1. A
      AMIT PATEL
      Feb 25, 2017 at 1:13 pm
      बीजेपी, RSS 3 साल में ISI के लिए गधों की तरह रात दिन मेहनत करके सारी रक्छा की ख़ुफ़िया जानकारी बेचा है, संघी की रगों में गद्दारी है पहले इनके पूर्वज अंग्रेजो के दलाली करते थे अब ये ISI के...
      (1)(0)
      Reply
      1. R
        ritesh
        Feb 25, 2017 at 12:45 pm
        गुरमेहर नही गुमराह कौर नाम ी रहेगा इनके लिए !! क्या हुआ इनके पिता शहीद थे तो , पुलिस में तो दाऊद का बाप भी था !!!!!!!
        (0)(1)
        Reply
        1. R
          ritesh
          Feb 25, 2017 at 12:50 pm
          लोकतंत्र की भी सीमा होती है , देश की चारदीवारी में लोकतंत्र को महफूज है , अगर उस देश के विभाजन के नारे लगाने वाले देश को खंडित करने वाले लोकतंत्र का हवाला दे, और उस महफूज चारदीवारी को तोड़ने के लिये लोकतंत्र का हवाला दें तो बात अटपटी है .
          (1)(1)
          Reply
          1. M
            manoj kumar
            Feb 26, 2017 at 4:36 am
            कॉलेज में पढने गयी हो ,पढ़ने में भारत की जनता का रुपिया बर्बाद हो रहा है,पढ़ने के बजाय हाथ ताकती लेकर घूम रही हो.भारत ही ऐसा महान देश है जहा कुछ बोलो ,जब मन करे दुशरे को गली दो ,सरक के किनारे खरा गारी को जला दो, मंदिर में मूक बैठे भागवान को गाली दो और गाली देने वाले के साथ रहो.अगर भारत अच्छा नहीं लगता तो उत्तरी कोरिया ,सीरिया ,अफगानिस्तान ,इराक ,अमेरिका ईरान इसराइल ,तुर्की .जॉर्डन ,फिलिस्तीन .पाकिस्तान,इन सभी देश खाली परा है और आप जैसे लोगों को सम्मान के साथ बुला रहा है. भारत माता को रुलाओ नहीं
            (0)(1)
            Reply
            1. N
              neeraj
              Feb 25, 2017 at 12:27 pm
              अपने पिता के सम्मान की जगह खालिद और अफजल गुरु को अपना आइडियल बना लेना चाहिए
              (0)(1)
              Reply
              1. लठैत परकास बलियावा
                Feb 25, 2017 at 11:09 am
                रंडियों की तख्ती प्रदर्शन का हम देशभक्तों पर कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता ......और जैसा बाप हो, कोई ज़रूरी तो नहीं कि उसकी बेटी भी वैसी ही हो ....?????
                (0)(3)
                Reply
                1. Drparas Jain
                  Feb 25, 2017 at 12:54 pm
                  यह शायद आप की माताजी का पूज्य नाम है ??
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. A
                    Appa baviskar
                    Feb 26, 2017 at 8:27 am
                    Shem on you because your abuse
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. A
                      Appa baviskar
                      Feb 26, 2017 at 8:24 am
                      Certificate hai tumare pas desh bhakati kya vakhya karte ho tum Tum boloto desh bhati ur dusara boleto desh drohi ,har sikke ke do pahelu hote hai,agar paksh to vipaksh honahi chahi hai varana paksh hi galat rahpar chalne lagtahai
                      (0)(0)
                      Reply
                    2. P
                      Peeyush Singh
                      Feb 25, 2017 at 10:47 am
                      Communists tell Army rapes..so her Father is rapist??Does she believe that her father raped many Kashmiri as her communist party says??If she believes then that's shameless.. She is using martyrdom of her father just for political correctness..shame Wat abt other soldier's children whose father died in kargil..they all will slap her..wat a shameful lady she is.
                      (1)(0)
                      Reply
                      1. Drparas Jain
                        Feb 25, 2017 at 12:55 pm
                        आप मेरा विरोध कर सकते हैं , उससे मुझे तनिक भी ख़ुशी नहीं होगी , किन्तु मैं आपके विरोध करने के हक़ को छीन नहीं सकता . यहीं मतलब है
                        (0)(0)
                        Reply
                      2. S
                        snehal
                        Feb 26, 2017 at 11:19 am
                        Very क्रुअल एक्ट by abvp संघी लोग जो लोगो इकींड़ेपनडेन्ट voices को दबाने में हर वक्त लगा रहता आई और उनके बॉस आरएसएस के तलवे चाट रहा है....shame on यू अब तो इन लोगो के isi कनेक्शन भी आहार आ गए हैजो इन लोगो की असली पहचान है....इसका जवाब तो वो देते नहीं और ये वोइलेंस करने निकले पड़ते है.... बीजेपी के इसारे नाचने वाले बंद करो तुम्हारी ये nationalishm की dukan
                        (1)(0)
                        Reply
                        1. H
                          Hariom
                          Feb 25, 2017 at 12:33 pm
                          वाह दोस्त क्या गजब का शब्द इस्तेमाल किया है आपने जरूर आप अपने घर में अपनी माँ और बहन को भी ऐसी ही भाषा में जवाब देते होंगे बेहतर होगा आप जैसे लोग देश के बारे में ना सोचे क्यों की जो इंसान अपनी माँ बहन की इज्जत नहीं कर सकता वो देश की क्या इज्जत करेगा धिक्कार है आप par
                          (0)(0)
                          Reply
                          1. Load More Comments