ओलंपिक खिलाड़ियों को रुचि सोया का ब्रैंड ऐंबेसडर बनाएंगे रामदेव, यह है हरियाणा कनेक्शन

रामदेव ने ऐलान किया है कि वह ओलंपिक पदक विजेता खिलाड़ियों को रुचि सोया का ब्रैंड ऐंबेसडर बनाएंगे. एक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने हरियाणा के खिलाड़ियों को आमंत्रित किया था।

ओलंपिक पदक विजेताओं के साथ रामदेव। सोर्स- बजरंग पुनिया का ट्विटर हैंडल

ओलंपिक में पदक जीतकर लौटे खिलाड़ियों की लोकप्रियता देश में बढ़ गई है। बाबा रामदेव अब अपनी कंपनी के प्रचार केलिए भी खिलाड़ियों की मदद लेने वाले हैं। अब तक रुचि सोया का भी ऐड रामदेव ही करते आए हैं लेकिन अब वह तीन खिलाड़ियों को ब्रैंड ऐंबेसडर बनाना चाहते हैं। इसमें रेस्लर बजरंग पुनिया (रजत पदक विजेता), रवि दहिया (कांस्य पदक विजेता) का नाम आगे बताया जा रहा है।

तीसरा नाम दीपक पुनिया का है जो कि कुश्ती के सेमीफाइनल राउंड में तो पहुंच गए थे लेकिन मेडल नहीं जीत पाए। रामदेव ने इन तीन कुश्तीबाजों का हरिद्वार में स्वागत भी किया था। बता दें कि ये तीनों ही हरियाणा से हैं और रामदेव की जड़ें भी हरियाणा से ही जुड़ी हुई हैं।

पतंजलि यूनिवर्सिटी में स्वागत समारोह के दौरान रामदेव ने इन खिलाड़ियों का परिचय देते हुए कहा था, ‘हरियाणा ऐसा राज्य है जिससे सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाले खिलाड़ी निकलते हैं।’ इस मौके पर रवि दहिया ने कहा था कि वह जब आठ साल के थे, तब से ही कुश्ती लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘मेडल जीतने के लिए बड़ी मेहनत करनी पड़ती है। लगातार प्रयास करना पड़ता है। और अगर आपको स्वामी रामदेव जैसे लोग इस तरह पहचानें तो इसका फल मिल जाता है।’

इस मौके पर रामदेव ने यह भी ऐलान किया कि जो खिलाड़ी भारतीय खेलों में अच्छा प्रदर्शन करेंगे, उनको भी प्रमोट किया जाएगा। उन्होंने कहा कि केवल क्रिकेट को बढ़ावा दिया गया इसलिए क्रिकेटर एक ही रात में स्टार बन जाते हैं। इसी तरह दूसरे खेलों को भी पहचान दिलाने की ज़रूरत है। रामदेव ने आगे कहा, ‘पतंजलि देसी खेलों को भी प्रसिद्ध करने का प्रयास करेगी। इसमें कुश्ती और कबड्डी शामिल होंगे। रुचि सोया के साथ कुश्ती खिलाड़ियों को जोड़ने अपने लक्ष्य की तरफ एक कदम आगे बढ़ना है।’

बता दें कि साल 2019 में पतंजिल ने रुचि सोया को अधिगृहित कर लिया था। जल्द रुचि सोया का 4300 करोड़ एफपीओ आने की भी संभावना है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट