ताज़ा खबर
 

पटना भगदड़: राज्य सरकार की लापरवाही और संवदेनहीनता की घोतक – रामविलास पासवान

पटना। केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं जनवितरण मंत्री रामविलास पासवान ने दशहरा समारोह के बाद पटना शहर स्थित गांधी मैदान के बाहर कल मची भगदड़, जिसमें 33 लोगों की मौत हुई, को राज्य सरकार की लापरवाही और संवदेनहीनता का घोतक बताते हुए इसके लिए प्रदेश की जदयू-राजद-कांग्रेस सरकार को जिम्मेवार ठहराया है। घटना में 29 […]

Author Published on: October 4, 2014 6:00 PM

पटना। केन्द्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं जनवितरण मंत्री रामविलास पासवान ने दशहरा समारोह के बाद पटना शहर स्थित गांधी मैदान के बाहर कल मची भगदड़, जिसमें 33 लोगों की मौत हुई, को राज्य सरकार की लापरवाही और संवदेनहीनता का घोतक बताते हुए इसके लिए प्रदेश की जदयू-राजद-कांग्रेस सरकार को जिम्मेवार ठहराया है। घटना में 29 लोग घायल हुए थे।

लोजपा संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष और अपने सांसद पुत्र चिराग पासवान के साथ गांधी मैदान का आज निरीक्षण करने पहुंचे रामविलास ने इस दर्दनाक घटना को राज्य सरकार की लापरवाही और संवदेनहीनता का घोतक बताया और इसके लिए प्रदेश की जदयू-राजद-कांग्रेस सरकार को जिम्मेवार ठहराया।
बिहार सरकार द्वारा इस हादसे की जांच राज्य के गृह सचिव आमिर सुबहानी और अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) गुप्तेश्वर पांडेय द्वारा कराए जाने की घोषणा को बेमानी करार देते हुए रामविलास ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा इसकी जांच कराए जाने का कोई मतलब नहीं।

पासवान ने कहा कि इससे पूर्व 2012 में छठ पूजा के अवसर पर अदालतघाट पर मची भगदड़ तथा उसके बाद वर्ष 2013 में पटना के गांधी मैदान में जब नरेंद्र मोदी आए थे उस समय यहां हुए सिलसिलेवार बम धमाकों से राज्य सरकार ने कोई सबक हासिल नहीं किया और अब जितने दिनों तक यह सरकार सत्ता में रहेगी इस तरह की घटनाएं घटती रहेंगी और वह उसकी सुध लेने वाली नहीं है।
19 नवंबर 2012 को पटना के पीरबहोर थाना अंतर्गत अदालत घाट के समीप छठ पूजा के अवसर पर मची भगदड़ में 17 लोगों की मौत हो गई थी। इसी तरह लोकसभा चुनाव से पहले 27 अक्तूबर 2013 को भाजपा की ‘हुंकार रैली के दौरान पटना के गांधी मैदान में हुए सिलेसिलेवार धमाकों में छह लोगों की मौत हो गयी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X