ताज़ा खबर
 

अयोध्या मामले में फैसला सुनाने वाले Supreme Court के 5 जजों की सुरक्षा बढ़ाई गई, अब साथ चलेंगे सशस्त्र जवान

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict: अयोध्या पर फैसले के बाद मुख न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस शरद अरविंद बोबडे, जस्टिस धनंजय वाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Author दिल्ली | Updated: November 10, 2019 6:32 PM
अयोध्या मामले पर फैसला सुनाने वाले पांच जज, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

Ayodhya Ram Mandir-Babri Masjid Case Verdict: संवदेनशील अयोध्या मामले में फैसला सुनाने वाले उच्चतम न्यायालय के पांच न्यायाधीशों की सुरक्षा में तैनात जवानों की संख्या बढ़ा दी गई है, उनके आवास के पास अवरोधक लगाए गए हैं और सचल सुरक्षा दस्तों की तैनाती की गई है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। शनिवार को कोर्ट ने अपने फैसले के द्वारा अयोध्या में राम मंदिर का रास्ता साफ किया है।

इन जजों की बढ़ाई गई सुरक्षा: सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि शनिवार को सदी पुराने विवाद पर फैसला देने के बाद ही प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, अगले प्रधान न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे, न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Hindi News Today, 10 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें

क्यों बढ़ाई गई सुरक्षा: वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘माननीय न्यायाधीशों की सुरक्षा एहतियातन बढ़ाई गई है। हालांकि, उनको खतरा होने की कोई विशेष जानकारी नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सुरक्षा मानक के तहत अतिरिक्त जवानों की तैनाती न्यायाधीशों के आवास पर की गई है और उनके घरों को जाने वाली सड़कों पर अवरोध लगाए गए हैं। इससे पहले न्यायाधीशों के आवास पर पहरेदार थे और स्थिर सुरक्षा दी गई थी।

ऐसी होगी सुरक्षा: अधिकारी ने कहा, ‘‘अब सुरक्षा में सचल हिस्से को जोड़ा गया है। अब प्रत्येक न्यायाधीश के वाहन के साथ एस्कॉर्ट (अनुरक्षक) वाहन चलेंगे जिनमें सशस्त्र सुरक्षाकर्मी होंगे। एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘‘यह व्यवस्था पूरी तरह से एहतियाती है।’’

राम मंदिर पर आया फैसला: उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने अयोध्या विवाद पर शनिवार को एकमत से फैसला सुनाते हुए विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ कर दिया और सरकार को मुस्लिम पक्ष के लिए हिंदुओं के पवित्र शहर में ही वैकल्पिक स्थान पर पांच एकड़ जमीन मस्जिद बनाने के लिए आवंटित करने का आदेश दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अयोध्या फैसला: ‘मेरे भाइयों के बलिदान को मेरी मां ने 25 साल तक जिया’, कारसेवा में मारे गए थे दो भाई
2 26 नवंबर की बैठक में अयोध्या में जमीन लेने पर फैसला करेगा सुन्नी वक्फ बोर्ड
3 ‘अब हिटलर का भी भूत मर गया, डर दिखाकर शासन करने वाले खुद खौफजदा हैं’, बीजेपी पर शिवसेना का नया तंज
ये पढ़ा क्या?
X