ताज़ा खबर
 

जेठमलानी ने जेटली को लिखा खत, कहा- केजरीवाल ने मुझसे अपमानजनक शब्द इस्तेमाल करने को कहा

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट को बताया गया कि केजरीवाल ने अपने वकील राम जेठमलानी को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने का निर्देश नहीं दिया था।

Karnataka Assembly Election Results 2018: देश के जाने-माने वकील राम जेठमलानी। (FILE Photo)

वित्त मंत्री अरुण जेटली की ओर से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ किए गए मानहानि केस में आप संयोजक की तरफ से केस लड़ रहे देश के वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने उनके ही खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। जेठमलानी ने केजरीवाल को लिखे लेटर में आरोप लगाया कि दिल्ली के मुख्यमंत्री के निर्देश पर ही उन्होंने वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया। यह बात जेठमलानी ने 20 जुलाई को केजरीवाल को लिखे अपने खत में कहा। इस लेटर की एक कॉपी उन्होंने अपने ब्लॉग पर भी शेयर की है। लेटर में वरिष्ठ वकील ने कहा कि जब अरुण जेटली ने आप पर पहला केस दर्ज कराया तो आपने हमारी सेवाएं ली। अपने (केजरीवाल) विवेक से पूछें कि आपने कितनी बार जेटली के खिलाफ अपमानजनक शब्दों का प्रयोग किया। आपने सैकड़ों पर उस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कहा कि उन्हें (जेटली को) सबक सीखाना है।

26 जुलाई को जेठमलानी ने अरविंद केजरीवाल के केस को खुद को अलग करने की घोषणा की थी। जेठमलानी ने कहा, “मैंने केजरीवाल का मुकदमा छोड़ दिया है। उन्हें वह पत्र दिखाना चाहिए जो मैंने उन्हें भेजा है। मेरे केस छोड़ने की वजह उनका झूठ है। केजरीवाल ने झूठ कहा कि उन्होंने मुझे निर्देश नहीं दिए थे।” जेठमलानी ने आगे बकाया फीस के सेटलमेंट को लेकर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा, “फीस नहीं देगा तो कोई बात नहीं। मैं हजारों लोगों के लिए फ्री में काम करता हूं।” बताया जा रहा है कि जेठमलानी ने केजरीवाल को लिखे लेटर की कॉपी वित्त मंत्री अरुण जेटली को भी भेजी है।

इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की ओर से दिल्ली हाई कोर्ट को बताया गया कि केजरीवाल ने अपने वकील राम जेठमलानी को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने का निर्देश नहीं दिया था। केजरीवाल ने एक शपथ-पत्र पेश कर उच्च न्यायालय से कहा, “ससम्मान यह अवगत कराया जाता है कि न तो केजरीवाल ने और न ही वरिष्ठ वकील जेठमलानी के सहायक वकीलों ने उन्हें 17 मई, 2017 की सुनवाई के दौरान आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया था।” यहां तक कि केजरीवाल ने जेठमलानी को एक पत्र लिखकर अपना वह दावा वापस लेने के लिए कहा है, जिसमें जेठमलानी ने अदालत को बताया था कि उन्होंने 17 मई को संयुक्त रजिस्ट्रार के समक्ष सुनवाई के दौरान केजरीवाल के निर्देश पर आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया था। जेठमलानी ने 17 मई की सुनवाई के दौरान जेटली के लिए अपमानजनक शब्द का इस्तेमाल किया था। जेटली ने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) मामले में केजरीवाल और आम आदमी पार्टी (आप) के पांच अन्य नेताओं के खिलाफ 10 करोड़ रुपये का मानहानि का दावा किया है।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 10 साल की रेप पीड़ित नहीं करवा सकेगी गर्भपात, SC ने याचिका ठुकराई