ताज़ा खबर
 

राकेश टिकैत बोले- अब नहीं मिलेगा नौजवानों को रोजगार, बैरिकेडिंग तोड़ना सीख लो, ट्रैक्टर किसान का टैंक है

राजस्थान के झुंझुनू में किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने किसानों को 'नया फॉर्मुला' दिया था।

Farm Law,Rakesh tikait, farmer protest,राकेश टिकैत ने कहा कि अनाज लेकर अब दिल्ली जाना होगा ( सोर्स – एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने राजस्थान में किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि जो हमारे नौजवानों साथी हैं उन्हें रोजगार अब नहीं मिलेगा। अब नई भर्ती नहीं हो रही है। जो नौकरी मेंं थे उन्हें भी निकाल दिया गया है। साथ ही उन्होंने कहा कि बैरिकेडिंग तोड़ना सीख लो, ट्रैक्टर किसान का टैंक है।

राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक आप बैरिकेडिंग तोड़ कर आगे नहीं बढ़ोगे तब तक आप दिल्ली तक आंदोलन नहीं कर सकते हो। बैरिकेडिंग तोड़ना ही तो आंदोलन का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि अगला जो आंदोलन होगा उसमें बैरिकेडिंग कही भी नहीं होनी चाहिए।प्रशासन अगर कहे कि धारा 144 लागू है तो मैं आपको कहता हूं कि भारतीय किसान यूनियन उन जगहों पर 288 धारा 7 वहां पर लगाती है। टिकैत ने कहा कि इस बार के आंदोलन में राजस्थान काफी मजबूती के साथ डटा हुआ है।

प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए किसान नेता ने ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने कहा था कि एमएसपी है, एमएसपी थी और रहेगी, 10 दिनों  में आपका फसल आ जाएगा तब आप भी कह देना एमएसपी थी, है और रहेगी। उनकी घोषणाओं का पता आप लोगों को चल जाएगा। उन्होंने कहा कि ये कुछ नहीं करने वाले हैं ये लुटेरे हैं देश को लूटने आए हैं।

झुंझुनू में किसानों को दिया था ‘नया फॉर्मुला’: राजस्थान के झुंझुनू में किसानों को संबोधित करते हुए भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने किसानों को ‘नया फॉर्मुला’ दिया था। उन्होंने कहा था कि ये दिन के लुटेरे हैं, भगाना पड़ेगा, अनाज लेकर अब दिल्ली जाना होगा। मंगलवार को किसान महापंचायत में उन्होंने किसानों से दिल्ली चलने की अपील की थी तथा कहा था कि अनाज ट्रैक्टर में भरकर दिल्ली चलें।

किसानों का आंदोलन जारी है: तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन लगातार जारी है। पिछले लगभग 100 दिनों से किसान दिल्ली बॉर्डर पर बैठे हुए हैं। सरकार के साथ 11 दौर की वार्ता के बाद भी दोनों पक्ष के बीच कोई फैसला नहीं हो पाया। जिसके बाद से सरकार और किसानों के बीच डेडलॉक जारी है। दोनों ही पक्षों के बीच अंतिम बार वार्ता 22 जनवरी को हुई थी।

 

Next Stories
1 भारत बायोटेक का दावा, 81 फीसदी कारगर है कोवैक्सीन, जानें टीका लगने के बाद क्या करें और क्या ना करें
2 भारत में कम हो गई फ्रीडम? वॉशिंगटन के थिंकटैंक ने स्कोर घटाया, कहा- मोदी के पीएम बनने के बाद लगे कई प्रतिबंध
3 किसान महापंचायत के मंच पर साथ नजर आए राकेश टिकैत और भीम आर्मी के ‘रावण’, केंद्र को दी चुनौती
ये पढ़ा क्या?
X