ताज़ा खबर
 

राकेश टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर पर चलाया हल, रेल रोको अभियान से पहले बोले- रेल रोक कर रेल चलवाएंगे

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गुरुवार को रेल रोककर उनका मकसद रेल चलवाना है। उनका कहना था कि पिछले 8 महीनों से देश भर में रेल रुकी हुई हैं। लोगों की सुविधा के लिए रेल चलनी चाहिए।

Rakesh Tikait, BKU, Farm LawsBKU नेता राकेश टिकैत। (फाइल फोटोः पीटीआई)

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गुरुवार को रेल रोककर उनका मकसद रेल चलवाना है। उनका कहना था कि पिछले 8 महीनों से देश भर में रेल रुकी हुई हैं। लोगों की सुविधा के लिए रेल चलनी चाहिए। यूपी हाइवे घेरने के सवाल पर उनका कहना था कि 16 लाईन का हाइवे है। इसे सरकार ने ही बंद कर रखा है। जनता को यह समझ में आना चाहिए कि उन्हें परेशान कौन कर रहा है।

उधर, टिकैत एक वीडियो में गाजीपुर बॉर्डर पर हल चलाते भी देखे गए। उनका कहना था कि हल चलाने का मकसद लोगों को संदेश देना है कि किसान धरने पर बैठा है। लोगों को साथ जोड़ने और आंदोलन को नई दिशा देने के लिए वो यहां हल चला रहे हैं। वीडियो में टिकैत कुछ लोगों के साथ हल चलाते देखे जा रहे हैं।

इसके पहले टिकैत ने कहा कि गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहा धरना-प्रदर्शन पूर्व की तरह ही जारी रहेगा। आंदोलम में शामिल लोग सांकेतिक रूप से ट्रेनें रोकेंगे और ड्राइवर को माला पहनाएंगे। इस दौरान यात्रियों को लस्सी के साथ खाना भी खिलाया जाएगा और उनसे अनुरोध किया जाएगा कि वह आंदोलन में हमारा मौन समर्थन करें।

गौरतलब है कि राकेश टिकैत ने पश्चिम बंगाल जाने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले पश्चिम बंगाल जाएंगे। बंगाल जाकर वहां के किसानों की समस्या सुनेंगे और फिर केंद्र व प्रदेश सरकार से इस पर जवाब मांगेंगे। बंगाल में अगले कुछ महीनों के दौरान विधानसभा चुनाव होना है। ऐसे में राकेश टिकैत के जाने से वहां पर सियासत गरमा सकती है। किसान नेताओं का मानना है कि जब बीजेपी हारेगी तभी किसान जीतेगा। इसी वजह से उन्होंने बंगाल जाकर लोगों को जागरूक करने का फैसला लिया है।

किसान आंदोलन को लगभग 3 माह होने को हैं। हालांकि अब दिल्ली के चारों तरफ मौजूद सीमाओं पर किसानों की तादाद पहले जैसी नहीं रह गई है। टिकैत का कहना है कि किसान खेत में काम भी करेगा और धरने पर भी बैठेगा। उनका कहना है कि आंदोलन तभी खत्म होगा जब तीनों काले कानून वापस होंगे और एमएसपी कानून के दायरे में आएगा।

Next Stories
1 मत्स्य मंत्रालय बनाने की राहुल गांधी की मांग पर गिरिराज सिंह का तंज- आप नए मत्स्यपालन मंत्रालय में आएं
2 ‘राकेश टिकैत जाट पॉलिटिक्स कर सरकार पर दबाव बना रहे हैं?’, एंकर के सवाल पर BKU के धर्मेंद्र मालिक ने दिया जवाब…
3 सवाल पर बोले पैनलिस्ट- क्या विपक्ष में बैठकर चूड़ी पहन लें? अर्णब ने टोका- आपका दिमाग हो गया है खराब
आज का राशिफल
X