गृह राज्य मंत्री को राकेश टिकैत ने बताया ‘पुराना गुंडा’, बोले- कानून के हाथ बंधे हैं

किसान नेता ने कहा कि “उनका पुराना इतिहास तो गुंडे का है। वहां के लोग डरते हैं उनसे। कहा कि इस मामले में कानून अपना काम नहीं कर रहा है। जब तक वह देश का गृह राज्य मंत्री रहेगा, किसी पुलिस-प्रशासन की हिम्मत नहीं है उनके खिलाफ कार्रवाई करने की।”

Lakhimpur Kheri, Farmers Protest
भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत। (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस फाइल)

तीन कृषि कानूनों को लेकर पिछले करीब एक साल से चल रहा आंदोलन अब और बढ़ता जा रहा है। आंदोलनकारी किसानों की पहले मांग थी कि तीनों कृषि कानून खत्म किए जाएं, एमएसपी पर गारंटी दें और किसानों के हित वाले कानून बनाएं, लेकिन इसमें एक और मांग जुड़ गई। वह मांग है गृहराज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र टेनी को जेल भेजने की।

इंडिया टीवी से बात करते हुए भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि किसान आंदोलन तब तक चलता रहेगा, जब तक तीन कृषि कानून खत्म नहीं होंगे और गृहराज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र टेनी जेल नहीं जाते हैं। वे 120 बी के मुलजिम हैं और लखीमपुर खीरी के तिकोनिया थाने में उनके खिलाफ मामला दर्ज है।

टिकैत ने कहा, उन्होंने बड़ा खतरनाक बयान दिया था। उनका बयान था कि “दो जिलों से या तो किसान संगठन वाले मान जाएं, नहीं तो मैं गृहमंत्री से अलग कुछ हूं। एमपी-एमएलए से बड़ा हूं। मेरा पुराना इतिहास देख लो, मैं क्या हूं।”

किसान नेता ने कहा कि उनका पुराना इतिहास तो गुंडे का है। वहां के लोग डरते हैं उनसे। उनसे कहा है कि “या तो मान जाओ, नहीं तो यहां से पलायन करना पड़ेगा।” कहा कि इस मामले में कानून अपना काम नहीं कर रहा है। जब तक वह देश का गृह राज्य मंत्री रहेगा, तब तक कानून के हाथ बंधे रहेंगे। पूछा कि किसी पुलिस-प्रशासन की हिम्मत है उनके खिलाफ कार्रवाई करने की।

टिकैत ने सिंघू बार्डर पर दलित सिख की हत्या की चर्चा करते हुए कहा, “सिंघू बार्डर पर जो घटना हुई, उसमें छह घंटे में ही गिरफ्तारी हो गई। वह पुलिस-प्रशासन के बीच हुई। वहां पर एलआईयू-इंटेलिजेंस के लोग थे। वे पाकिस्तान में जा सकते हैं, वहां का घटनाक्रम उनको पता है। दस कदम की दूरी पर सिंघू बार्डर है, वहां पर नहीं जा सकते हैं। यह एलआईयू-इंटेलिजेंस की देखरेख में करवाई हुई घटना है। उसमें भारत सरकार की साजिश है। कौन सी एजेंसी उसमें काम कर रही थी।”

कहा कि यह देश कृषि और ऋषि पर आधारित है। इसमें कृषि के साथ छेड़खानी होगी तो हलचल होगी। इसमें ऋषि के साथ छेड़खानी होगी तो हलचल होगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
कल्याण सिंह के निधन पर यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक, सभी दलों के राजनेताओं ने जताया दुख; कल नरौरा में होगा अंतिम संस्कारKalyan Singh, Former CM
अपडेट