ताज़ा खबर
 

BJP का समर्थन करना था मेरी सबसे बड़ी गलती- किसान आंदोलन के बीच बोले राकेश टिकैत के भाई नरेश

टिकैत ने कहा था कि उन्होंने विकास में पूरा सहयोग दिया। लेकिन अब सरकार उन्ही लोगों की बात नहीं सुन रही है।

Farm Law,Naresh Tikait, Rakesh tikaitनरेश टिकैत ने कहा कि कृषि कानूनों के वापस लिए बिना आंदोलन खत्म होने वाला नहीं है (फोटो- PTI)

भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी को समर्थन करना उनकी गलती थी। उत्तर प्रदेश के बस्ती में किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार किसानों को बर्बाद करने में लगी है। यह सरकार पूंजीपतियों के हाथों की कठपुतली बन गई है।

नरेश टिकैत ने कहा कि उन्होंने और उनकी यूनियन ने 2014 में बीजेपी और नरेंद्र मोदी की मदद की थी लेकिन लेकिन बीजेपी ने पांच साल का कार्यकाल यह कहकर गुजार दिया कि पुरानी सरकार द्वारा फैलाई गई अव्यवस्था दूर करने में समय लग रहा है। इस कार्यकाल में बीजेपी तीन नए कानून लाकर किसानों को ही खत्म करने में लगी है। लेकिन हम धर्मयुद्ध लड़ रहे हैं। जीत हमारी ही होगी। साथ ही उन्होने कहा कि नेताओं का बहिष्कार किया जाए उन्हें तब तक घर नहीं बुलाया जाए जब तक कानून वापस नहीं लिया जाता है।

गौरतलब है कि नरेश टिकैत ने बीबीनगर में आयोजित एक किसान महापंचायत में भी केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला था। टिकैत ने कहा था कि उन्होंने विकास में पूरा सहयोग दिया। लेकिन अब सरकार उन्ही लोगों की बात नहीं सुन रही है। उन्होंने जोर देकर कहा था कि बीजेपी की नीति खतरनाक है। सरकार तानाशाही का रवैया अपना रही है।

इससे पहले मुजफ्फरनगर में किसानों की पंचायत को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था कि इसे आप आदेश या सलाह दोनों ही मान सकते हैं लेकिन बीजेपी नेताओं को न्यौता नहीं भेजना है। उन्होंने कहा था कि अगर बीजेपी नेताओं को उनके कार्यकर्ता न्यौता देते हैं तो अगले दिन 100 लोगों के लिए भी भोजन की व्यवस्था करनी पड़ेगी।

गौरतलब है कि भारतीय किसान यूनियन की तरफ से लगातार किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें हजारों की संख्या में किसान पहुंच रहे हैं। इधर राकेश टिकैत ने भी कहा है कि वो आने वाले दिनों देश के कई राज्यों में जा कर किसानों से आंदोलन के लिए समर्थन लेंगे।

Next Stories
1 जब नेहरू की सिगरेट लेने इंदौर भेजा गया था विमान, जानें कैसे हुआ था पसंदीदा ब्रांड का इंतज़ाम
2 कृषि कानून से अधिक गन्ने का मुद्दा मुजफ्फरनगर के गावों में हावी, बोले- अधिक जानकारी नहीं, पर आंदोलनकारियों के समर्थन में
3 चुनावी सूबों में Congress की राह नहीं आसान! CAA, किसान आंदोलन को भुनाने की कवायद में जुटी
ये पढ़ा क्या?
X