ताज़ा खबर
 

राकेश अस्थाना केस: पॉलिग्राफ टेस्ट में पुष्टि, सीबीआई में नंबर दो अधिकारी को दी गई थी घूस!

एजेंसी ने साना के अलावा केस में कथित बिचौलिया मनोज प्रसाद के ससुर सुनील मित्तल और भाई सोमेश्वर श्रीवास्तव का भी क्रमश: 8 और 13 मार्च को पॉलिग्राफ टेस्ट कराया है।

Author नई दिल्ली | Updated: November 8, 2019 8:30 AM
सीबीआई के पूर्व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना। (फाइल फोटो)

सीबीआई में नंबर दो रहे राकेश अस्थाना के खिलाफ चल रही घुसखोरी की जांच में नया खुलासा हुआ है। घूस देने के आरोपी और हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना के पॉलिग्राफ टेस्ट में घूस देने की पुष्टि हुई है। इसी साल मार्च में 12 और 13 तारीख को सतीश बाबू सना की पॉलिग्राफी टेस्ट हुई थी। साना ने ही पिछले साल इसकी शिकायत की थी, जिसके आधार पर राकेश अस्थाना के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। सना ने तब दावा किया था कि मीट कारोबारी मोईन कुरैशी को बचाने के लिए एक बिजनेसमैन के जरिए साल 2016 में राकेश अस्थाना को घूस दिया था।

दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई को आठ दिसंबर तक राकेश अस्थाना केस की जांच करने का आदेश दिया है। सूत्रों के मुताबिक जांच एजेंसी ने मामले में अधिकांश हिस्से की जांच पूरी कर ली है और अमेरिका और यूएई को भेजे गए पत्र रोजरी (एलआर) के जवाब का इंतजार कर रही है।

एजेंसी ने साना के अलावा केस में कथित बिचौलिया मनोज प्रसाद के ससुर सुनील मित्तल और भाई सोमेश्वर श्रीवास्तव का भी क्रमश: 8 और 13 मार्च को पॉलिग्राफ टेस्ट कराया है। इस केस से जुड़े एक और अहम गवाह पुनीत खरबंदा का एजेंसी ने दो बार 7 मार्च और 5 अप्रैल को पॉलिग्राफ टेस्ट करवाया है।

अप्रैल के तीसरे सप्ताह में सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी की फोरेंसिक स्टेटमेंट एनालिसिस रिपोर्ट और फोरेंसिक मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन के आधार पर निष्कर्ष निकाला गया है कि सना और खरबंदा ने सीबीआई अधिकारी से मनमाफिक जांच रिपोर्ट लिखवाने के उद्देश्य से पैसे दिए हैं। मामले में मित्तल और श्रीवास्तव के पॉलिग्राफ टेस्ट पर कोई निष्कर्षपरक राय नहीं बन सकी क्योंकि उनके बयान अपर्याप्त थे और जांच के बारे में उनके पास इससे जुड़ी सूचना नहीं थी।

इस साल जनवरी में CBI ने दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में एक आवेदन दिया था, जिसमें आरोपी और शिकायतकर्ता पर पॉलिग्राफ टेस्ट आयोजित करने के लिए सहमति मांगी गई थी। मामले में घूस देने के आरोपियों ने पॉलिग्राफ टेस्ट की सहमति व्यक्त की जबकि मनोज प्रसाद, (जिसने रिश्वत के पैसे को स्वीकार करने का आरोप लगाया) ने पॉलिग्राफ टेस्ट से इनकार कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी को “डिवाइडर इन चीफ” लिखने वाले आतिश तासीर का OCI कार्ड रद्द, भारत ने कहा- नहीं बताया था कि पिता पाकिस्तानी हैं
2 गाय लेकर गोल्ड लोन लेने पहुंचा किसान, बंगाल भाजपा अध्यक्ष ने कहा था कि दूध में होता है सोना
3 Weather Forecast Today, Cyclone Bulbul and Maha LIVE Updates: चक्रवात महा से गुजरात को राहत, दिल्ली में वायु गुणवत्ता फिर ‘सबसे खराब’ श्रेणी में पहुंची
ये पढ़ा क्या?
X