ताज़ा खबर
 

राज्‍यसभा चुनाव: यूपी में विधायकों की वफादारी जांचने के लिए कांग्रेस ने रखी डिनर पार्टी, एमपी में दी खास ट्रेनिंग

कांग्रेस की तरफ से कुछ खास तैयारियां की जा रही है। इसमें डिनर का प्रोग्राम और विशेष ट्रेनिंग जैसे कार्यक्रम शामिल हैं। जानिए उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में किस पार्टी की क्या रणनीति है।
Author लखनऊ,भोपाल | June 7, 2016 15:00 pm
राज्यसभा की 57 सीटों के लिए 11 जून को वोटिंग होनी है।

राज्यसभा की 57 सीटों के लिए शनिवार (11 जून) को वोटिंग होनी है। सभी राजनीतिक खेमों में इस चुनाव की हलचल महसूस की जा सकती है। इन 57 सीटों में से बीजेपी और कांग्रेस दोनों के पास 14-14 सीटे हैं। उत्तराखंड और असम में कांग्रेस अपनी पार्टी के लोगों को खोकर सतर्क हो गई है। पार्टी के और लोग अब बाहर ना जाएं इसके लिए कांग्रेस की तरफ से कुछ खास तैयारियां की जा रही है। इसमें डिनर का प्रोग्राम और विशेष ट्रेनिंग जैसे कार्यक्रम शामिल हैं। जानिए उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में किस पार्टी की क्या रणनीति है।

उत्तर प्रदेश: यहां पर 11 सीटों के लिए चुनाव होने हैं। कांग्रेस पार्टी ने बुधवार (8 जून) को अपने सभी 29 विधायकों को लखनऊ बुलाया है। यहां पर एक डिनर का आयोजन किया गया है। जो विधायक इस डिनर में नहीं आएगा उसे पार्टी के खिलाफ वोट करने वाला मान लिया जाएगा। इस डिनर में कपिल सिब्बल के साथ ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) के महासचिव मधुसुदन मिस्त्री, राज्य अध्यक्ष निर्मल खतरी और कांग्रेस के विधायक दल के नेता प्रदीप माथुर भी शामिल होंगे। कांग्रेस के साथ मुश्किल यह है कि कपिल सिब्बल को जिताने के लिए उसे 34 वोट चाहिए पर उसके पास कुल विधायक 29 ही हैं।

वहीं समाजवादी पार्टी की तरफ से अपने सभी 229 विधायकों को लखनऊ में बुला लिया गया है। इन लोगों से कहा गया है कि मुलायम सिंह यादव किसी भी वक्त इन सभी से मीटिंग कर सकते हैं। सपा ने 7 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। 80 विधायकों वाली बसपा कांग्रेस को सपोर्ट कर सकती है। बसपा खुद दो सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

Read Also: राज्‍य सभा में साख बचाने के लिए विधायकों को महाराष्ट्र ले गई कांग्रेस

मध्य प्रदेश: कांग्रेस ने अपने सभी 57 विधायकों के लिए एक ट्रेनिंग सेशन रखवाया है। इसमें सभी को सिखाया जा रहा है कि अगर कोई उन्हें रिश्वत देने की कोशिश करे तो वह कैसे अपने फोन में उसकी रिकॉर्डिंग कर सकते हैं। यह सब इसलिए किया जा रहा है क्योंकि पार्टी के विधायक दिनेश अहिरवार पर सबको शक है कि उन्होंने सत्ताधारी बीजेपी का दामन थामने का मन बना लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.