ताज़ा खबर
 

राजीव गांधी की हत्या के आरोपी ने RTI में पूछा- संजय दत्त को सजा पूरी होने से पहले कैसे छोड़ा गया ?

कुल 7 दोषियों को पहले फांसी की सजा मिली थी जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दिया। सभी 7 दोषी जेल में 20 साल से ज्यादा का वक्त बिता चुके हैं।

Author चेन्नई | June 24, 2016 12:12 PM
ए जी पेरारीवलन उम्रकैद की सजा काट रहे हैं। वह 1991 से जेल में हैं।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या करने के आरोप में सजा काट रहे ए जी पेरारीवलन ने अपनी रिहाई की मांग करते हुए एक्टर संजय दत्त की रिहाई पर सवाल उठाए हैं। इन लोगों ने RTI डालकर पूछा है जब संजय को रिहाई मिल सकती है तो उन्हें क्यों नहीं? कैदियों ने जानना चाहा है कि संजय दत्त को किस बिनाह पर सजा पूरी होने से पहले जमानत मिल गई ?

कुल 7 दोषियों को पहले फांसी की सजा मिली थी जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दिया। सभी 7 दोषी जेल में 20 साल से ज्यादा का वक्त बिता चुके हैं। इनकी रिहाई की मांग को लेकर तमिलनाडु में कई धरने भी हो चुके हैं। डाली गई इस RTI के बारे में यरवादा जेल के अधिकारी मंगलवार (28 जून) को बातचीत करेंगे। यह महाराष्ट्र की वही जेल है जहां पर संजय दत्त बंद थे।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Apple iPhone 7 32 GB Black
    ₹ 41999 MRP ₹ 52370 -20%
    ₹6000 Cashback

इन कैदियों का केस लड़ रहे वकील का कहना है कि संजय दत्त पर TADA (Terrorist and Disruptive Activities) के तहत केस दर्ज था, बावजूद इसके उन्हें जमानत भी मिली और सजा पूरी होने से पहले छोड़ भी दिया गया। वहीं राजीव गांधी की हत्या के दोषियों पर लगे TADA को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है और उनपर साजिश रचने का आरोप भी सिद्ध नहीं हुआ है। बावजूद इसके, इन लोगों को पिछले 25 सालों में एक बार भी जमानत नहीं मिली।

ए जी पेरारीवलन की मां ने अपने बेटे को निर्दोष बताते हुए कहा, ‘मेरे बेटे ने ना तो किसी को मारा और ना ही कोई साजिश रची। उसने अपने बयान में सबकुछ सच बता दिया है। संजय दत्त जिनपर TADA लगी हुई थी उन्हें सजा के दौरान 118 दिन बाहर रहने दिया गया। इसलिए मेरे बेटे ने जानना चाहा है कि ऐसा क्यों हुआ। ‘

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App