ताज़ा खबर
 

Birthday Special: …जब मैच देखने के लिए पिता ने लगाई थी सिफारिश, फिर भी नहीं मिली थी राजीव शुक्ला को एंट्री, जानें पूरा किस्सा

एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि बचपन में मैच देखने के लिए स्टेडियम में घुसने नहीं दिया गया था।

IPL, cricketकांग्रेस नेता राजीव शुक्ला। (पीटीआई)

कांग्रेस के दिग्गज नेता राजीव शुक्ला का आज 61वां जन्मदिन है। 13 सितंबर, 1959 को जन्मे राजीव शुक्ला के बारे में शायद कम ही कम लोग जानते हैं कि वो भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद की बहन के पति हैं। रविशंकर की बहन अनुराधा और राजीव शुक्ला का विवाह 27 जून, 1988 को हुआ था। कांग्रेस नेता शुक्ला ने अपने करियर बतौर एक पत्रकार के रूप में शुरू किया। राजीव शुक्ला कांग्रेस नेता होने के साथ-साथ जाने-माने क्रिकेट प्रशासक भी हैं।

लल्लनटॉप के सौरभ द्विवेदी को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि बचपन में मैच देखने के लिए स्टेडियम में घुसने नहीं दिया गया था। बकौल राजीव शुक्ला बचपन में कानपुर के ग्रीन पार्क स्टेडियम में मैच हो रहा है, और हम भी मैच देखना चाहते थे। वहां पुलिसवाले जुगाड़ से अंदर घुसाते थे। ऐसे ही किसी पुलिसवाले से पिता जी की जान पहचान थी, उन्होंने मैच देखने के लिए हमें सुबह ग्यारह बजे आने को कहा। वहां पहुंचे तो वो मिले नहीं।

Bihar, Jharkhand Coronavirus LIVE Updates

कांग्रेस नेता कहते हैं, ‘हम स्टेडियम के बाह खड़े रहे। अंदर चौके-छक्के पड़ रहे थे। हम बहुत हताश थे क्योंकि पुलिसकर्मी पहुंचा ही नहीं था। इसपर पिताजी ने समोसा और चाय पिलाकर मुझे खुश किया।’ शुक्ला कहते हैं कि आज जब टिकट बच जाते हैं तो मैं कार से बाहर चक्कर लगाता हूं ताकि उन बच्चों को टिकट दे दूं जो मैच देखना चाहते हैं, अंदर घुसने के लिए लालायित रहते हैं। हालांकि मैच टिकट पाने के बाद वो शुक्रिया तो बहुत दूर मेरी तरफ देखते भी नहीं थे।

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी में बड़े उलटफेर के तहत राजीव शुक्ला को हिमाचल प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी है। साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं और शुक्ला को उससे पहले कांग्रेस में जीत का भरोसा पैदा करना होगा। शुक्ला 2014 में भी कुछ समय के लिए प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी रह चुके हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Bihar Elections 2020: 25 सालों का BSP से नाता तोड़ JDU में प्रदेश उपाध्यक्ष शामिल, दर्जनों पदाधिकारियों ने भी थामा नीतीश के दल का दामन
2 2009 अवमानना केस: प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिक की यह मांग
3 वाराणसी: PM मोदी पर अभद्र टिप्पणी और सरकार की नीतियों को विरोध करने के आरोप में इंजीनियर सस्पेंड
IPL 2020 LIVE
X