ताज़ा खबर
 

टीवी पत्रकार ने पूछा गैर भाजपा सरकार में नक्सली हमले होते ही गृह मंत्री से मांगे जाते थे इस्तीफे अब क्यों नहीं

चिंतागुफा के पास बुर्कापाल इलाके में करीब 300 नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर घात लगाकर हमला कर दिया था।

नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद।

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में 24 अप्रैल को हुए नक्सली हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हो गए। इस पर पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर सवाल पूछा कि जब कांग्रेस के जमाने में नक्सली हमला होता था तो मानवाधिकार कार्यकर्ता गृह मंत्री का इस्तीफा मांग लेते थे। अब वह कार्यकर्ता कहां गए। उनके इस ट्वीट पर लोगों के अलग-अलग तरह के रिप्लाई आ रहे हैं। सेमू भट्ट नाम की यूजर ने लिखा कि जब नक्सल अटैक हुआ तब ऐसे लोग अपनी पवित्र गाय का दूध निकालने में व्यस्त हैं । पवन बहल नाम के यूजर ने लिखा कि अगर हमारे पास ऐसे पत्रकार हैं तो हमें दुश्मन की कोई जरूरत नहीं है। पवन ने यह भी लिखा कि मैं यह आपके (राजदीप सरदेसाई) लिए नहीं कर रहा हूं।

यूजर अनंत सुरेश पटेल ने लिखा कि अभी यही 26 जवानों की जगह 26 नक्सली मारे गए होते तो रवीश कुमार स्क्रीन काली कर समझा रहे होते कि सीआरपीएफ चाहती तो उन्हें जिंदा पकड़ समझा सकती थी। एक यूजर समीर झा ने सवाल किया कि दिल पर हाथ रखकर बताओ कि अगर यही बंगाल या बिहार में हुआ होता तो जंगलराज, सीएम इस्तीफा दो और न जाने क्या क्या मांग हो रही होतीं। अब क्या हो रहा है? सरदेसाई के ट्वीट पर राहुल नाम के यूजर ने गृह मंत्री राजनाथ सिंह से इस्तीफे की मांग कर डाली। राहुल ने लिखा राजनाथ सिंह जी, सुकमा नक्सली हमले पर संवेदना व्यक्त करते हुए आपको इस्तीफा दे देना चाहिए था। साथ ही गृह मंत्रालय का नाम बदलकर निंदा मंत्रालय रखने की सलाह दे डाली।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिले सुकमा जिले में नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर हमला किया। हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान शहीद हो गए। 24 अप्रैल को सीआरपीएफ की 74 वीं बटालियन का एक दल सुकमा में रोड ओपनिंग पार्टी के तौर पर इलाके में गश्त पर था। इसी दौरान दोपहर डेढ़ बजे के करीब चिंतागुफा के पास बुर्कापाल इलाके में करीब 300 नक्सलियों ने सीआरपीएफ जवानों पर घात लगाकर हमला कर दिया। अचानक हुए इस हमले के कारण जवानों को संभलने का मौका नहीं मिला। यह नक्सली हमला सुरक्षाबलों पर पिछले 7 सालों में हुए तीन बड़े हमलों में से एक है।

छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में 25 CRPF जवान शहीद, जवानों को न मिले मदद इसलिए रेडियो सेट्स ले गए थे नक्सली, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पुलिस अधिकारियों को मनमाने तरीके से नहीं हटा सकेंगे राजनेता: सुप्रीम कोर्ट
2 2008 मालेगांव ब्लास्ट केस: साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को बॉम्बे हाईकोर्ट से मिली जमानत, लेकिन जमा कराना होगा पासपोर्ट
3 पत्नी पाई गई क्रूरता की दोषी, सुप्रीम कोर्ट ने पति से कहा- पत्नी को दें 50 लाख रुपए और 1 करोड़ का फ्लैट
ये पढ़ा क्या?
X