ताज़ा खबर
 

एक ही दिन कांग्रेस के दो बड़े नेताओं की सलाह- न करें हर बात पर नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना

वह बोले- हम विपक्ष में हैं। हमें सोचना होगा कि आखिर वह सत्ता में लौट कर कैसे आए। मोदी का वोट फीसदी 31 से बढ़कर 37 फीसदी हुआ है, जबकि हमारे में कमी आई है।

जयपुर में गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान डिप्टी सीएम सचिन पायलट के साथ पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर। (फोटोः पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर अक्सर हमलावर और आक्रामक रवैया अपनाने वाले मुख्य विपक्षी कांग्रेस के दो बड़े नेताओं ने एक ही दिन में मोदी को लेकर अलग राय रखी है। उन्होंने कहा है कि हर बात पर मोदी सरकार की आलोचना नहीं की जानी चाहिए। ये दो नेता शशि थरूर और सचिन पायलट हैं। सीनियर कांग्रेसी नेता शशि थरूर ने राजस्थान के जयपुर स्थित होटल क्लार्क्स आमेर में गुरुवार (19 सितंबर, 2019) को हुए ‘टॉक जर्नलिज्म’ कार्यक्रम में न सिर्फ अपनी पार्टी बल्कि पीएम मोदी और देश की अर्थव्यवस्था पर बेबाकी से राय रखी।

उन्होंने कहा- हमारी पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होना चाहिए था। मैं कार्यकर्ताओं को और विकल्प देते देखना चाहता था, पर यह अकादमिक रुचि है कि कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC: Congress Working Committee) ने सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष चुना।”

उन्होंने आगे टैक्स टेररिज्म (कर चोरी) और देश से भागते अमीरों का भी मुद्दा छेड़ा। कहा, “विदेशी निवेशक इस देश से अपना पैसा वापस निकाल रहे हैं। यह साफ है कि वे मौजूदा परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए ऐसा कर रहे हैं। वे जब जान रहे हैं कि लोगों की भीड़ द्वारा हत्या सिर्फ गाय और सामाजिक सौहार्द के नाम पर की जा रही हैं, तब वे ऐसे देश में पैसे नहीं लगाना चाहते हैं।

बकौल थरूर, “कोई भी देश ऐसी जगह पर पैसे नहीं निवेश करेगा, जहां पर जंग की स्थिति हो या उससे मिलते-जुलते हालात हों।” बाद में पीएम मोदी को लेकर वह बोले कि हर चीज पर पीएम मोदी की निंदा नहीं की जानी चाहिए। विपक्ष को यह भी देखना चाहिए कि आखिर कांग्रेस में कहां कमी है और क्या चीज मोदी के समर्थन में काम कर रही है।

वह बोले- हम विपक्ष में हैं। हमें सोचना होगा कि आखिर वह सत्ता में लौट कर कैसे आए। मोदी का वोट फीसदी 31 से बढ़कर 37 फीसदी हुआ है, जबकि हमारे में कमी आई है। उनकी कुछ नीतियां मसलन Swachh Bharat Yojana और Ujjwala Yojana ने चुनाव में उनके लिए बढ़िया काम किया है। हालांकि, यह भी सच है कि 65 फीसदी इन टॉयलेट्स में पानी ही नहीं है।

उधर, राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने सूबे की राजधानी में कहा- सबसे पहला कदम असलियत को स्वीकारना है। देश और दुनिया भर के सभी सर्वे कहते हैं कि अर्थव्यवस्था बुरे हाल में है। अगर हमें कोई दिक्कत है, तो हमें आलोचना के बजाय सकारात्मक सुझाव देने चाहिए। बकौल पायलट, “आज हर क्षेत्र में स्लोडाउन है। निवेशकों के आत्मविश्वास में भी कमी आई है। नॉन परफॉर्मिंग असेट्स (एनपीए) भी बढ़े हैं। बैंक भी लोन नहीं दे रहे हैं। नौकरियां भी नहीं पैदा हो रही हैं, जबकि कई फैक्ट्रियां भी बंद हो गई हैं।”

Next Stories
1 महिला एंकर ने रेप के आरोपी बीजेपी नेता की गिरफ्तारी नहीं होने पर उठाए सवाल तो हो गईं ट्रोल- बड़ी देर से जागीं आप?
2 लिक्विडिटी बढ़ाने को निर्मला सीतारमण ने बैंकों को दिया ‘शामियाना मंत्र’, अगले 10 दिनों तक 200 जिलों में नए कर्ज देने की सलाह, NPA में भी दी छूट
3 BJP विधायक बोले- बना रहा हूं प्राइवेट आर्मी, सभी एंटी नेशनल को देश से बाहर खदेड़ दूंगा
ये पढ़ा क्या?
X