ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: सचिन पायलट को प्रदेश Congress अध्‍यक्ष पद से हटाया, मंत्रियों की भी कुर्सी गई, कांग्रेस सेवा दल अध्‍यक्ष भी बदला

इतना ही नहीं, पायलट की जगह पर गोविंद सिंह दोस्तारा को राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष बना दिया गया है।

achin pilot, rajasthan, congressराहुल गांधी के साथ राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सूबे के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः रोहित जैन पारस)

राजस्थान में सियासी संकट के बीच मंगलवार (14 जुलाई, 2020) को Congress ने सचिन पायलट को तगड़ा झटका दिया। पार्टी ने उन्हें डिप्टी-सीएम के साथ प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PCC) पद से भी हटा दिया है। मंगलवार को यह जानकारी कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान दी।

फेयरमोंट होटल के बाहर पत्रकारों से सुरजेवाला ने कहा, “पायलट को पिछले 17-18 सालों में कम उम्र में ही अहम पद दिए गए थे। बदकिस्मती की बात है कि वह और कुछ अन्य लोग BJP के बहकावे में आ गए। सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह (पयर्टन मंत्री) और रमेश मीणा (खाद्य आपूर्ति मंत्री) को मंत्री पद से हटा दिया गया है।”

बकौल सुरजेवाला, “मुझे खेद है कि पायलट और उनके खेमे के कुछ लोग बीजेपी के बहकावे में आए गए और अब वह आठ करोड़ राजस्थानियों द्वारा चुनी गई कांग्रेस की सरकार को गिराने के लिए साजिश रच रहे हैं। यह चीज किसी भी सूरत में स्वीकार नहीं की जा सकती है।”

#WATCH: I regret that Sachin Pilot and some of his associates have been swayed by BJP’s plot and are now conspiring to topple the Congress govt elected by 8 crore Rajasthanis. It is unacceptable: RS Surjewala, Congress #Rajasthan pic.twitter.com/yopWWJ32Cg

पायलट की जगह पर गोविंद सिंह डोटासरा को राजस्थान कांग्रेस अध्यक्ष बना दिया गया है। डोटासरा , मौजूदा समय में प्राइमरी और सेकेंड्री एजुकेशन मिनिस्टर (शिक्षा मंत्री) हैं। वहीं, हेम सिंह शेखावत को सेवा दल का स्टेट प्रेसिडेंट नियुक्त किया गया है।  वहीं, मुकेश भाकर को भी राजस्थान इंडियन यूथ (IYC) अध्यक्ष पद से हटा दिया गया है।

बर्खास्तगी पर भाकर ने ट्वीट कर कहा, “मैं तो चुनाव जीतकर यूथ कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष बना हूं। गहलोत कौन होते हैं, मुझे हटाने वाले? गहलोत और उनके मंत्री-विधायक तो पहले ही एक किसान-फौजी के बेटे को हराने में लगे हुए थे।” उनकी जगह गणेश घोगरा को नया स्टेट IYC चीफ बनाया गया है।

इसी बीच, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राज्यपाल कलराज मिश्र से जयपुर स्थित राजभवन मिलने पहुंचे। राज्यपाल को सीएम ने पायलट, विश्वेंद्र सिंहऔर रमेश मीणा को बर्खास्त किए जाने का प्रस्ताव दिया, जिसे राज्यपाल ने तत्काल प्रभाव से स्वीकृति प्रदान की।

उधर, बर्खास्तगी के कुछ ही क्षणों बाद पायलट ने ट्वीट किया, “सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं।” इससे पहले, कांग्रेस विधायक दल की बैठक के दौरान मौजूद रहे 102 MLA ने मांग की कि पायलट को पार्टी से निकाल दिया जाना चाहिए।

वहीं, राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से नाराज चल रहे खेमे ने सदन में शक्ति परीक्षण कराने की मांग की थी। विधायक दीपेंद्र सिंह के बाद पायलट के करीबी रमेश मीणा ने भी यह मांग की। उन्होंने मंगलवार को कहा, ‘‘सदन में शक्ति परीक्षण (फ्लोर टेस्ट) होना चाहिए। इससे उस दावे की पोल खुल जाएगी कि अशोक गहलोत सरकार को 109 विधायकों का समर्थन प्राप्त है।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 राजस्थान: 1954 में भी हुई थी बग़ावत, पंडित नेहरू नहीं बचा पाए थे सरकार, तांगे में सामान लाद सीएम ने ख़ाली किया था बंगला
2 ईरान से भारत को लगा बड़ा झटका, चाबहार रेल परियोजना से किया बाहर; फंडिंग में देरी को बताया वजह
3 2014 में भाजपा को समर्थन का प्रस्ताव, शिवसेना को उनसे दूर करने की ‘राजनीतिक चाल’ थी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने किया खुलासा
ये पढ़ा क्या?
X