राजस्थानः ‘फकीर’ की पिटाई, कहा- PAK जाओ; ओवेसी बोले- ये कमतरी गोडसे की हिंदुत्ववादी सोच का नतीजा

वायरल वीडियो के आधार पर पांच लोगों को सीआरपीसी के सेक्शन 151 के तहत हिरासत में ले लिया गया है।

Muslim, Rajasthan, AIMIM
राजस्थान के अजमेर में मुस्लिम फकीर और उसके साथी को पीटते हुए युवक। (वीडियो स्क्रीनग्रैबः @hussainhaidry/टि्वटर)

राजस्थान के अजमेर शहर में कथित तौर पर एक मुस्लिम फकीर और उसके साथी को कथित तौर पर पीटा गया। आरोपियों ने इस दौरान उससे और उसके परिवार के साथ बदतमीजी की और पाकिस्तान चले जाने को कहा।

घटना वहां के चंद्रवरदाई नगर की बताई जा रही है। टि्वटर पर इससे जुड़ा एक वीडियो सामने आया, जिसमें जमीन पर बैठे दो युवक और उनके पीछे खड़ी एक महिला नजर आ रही थी। जानकारी के मुताबिक, ये लोग मुस्लिम हैं और भीख मांगकर अपना पेट पालते हैं। दो मिनट 20 सेकेंट की क्लिप में अन्य लोगों में एक तिलकधारी व्यक्ति उन्हें हड़काते नजर आ रहा था। उसने कहा, “तेरा पाकिस्तान…पाकिस्तान जाएगा।” यह कहते ही उसने नीचे बैठे एक युवक को जोर से लात मारी।

हालांकि, साथ में बैठा व्यक्ति गरीब आदमी होने की दुहाई मांग रहा था। पर धमकाने वाला शख्स बोला, “जा न अपने अल्लाह के पास।” मुस्लिम युवकों के पास एक गाना बजाने वाला यंत्र भी था, जिसमें कव्वाली बज रही थी। इसी को लेकर हमलावर पूछ रहा था कि ये क्या बज रहा है? कितने दिन भीख मांगेगा, भीख मांगने से जिंदगी निकल जाएगी? पाकिस्तान जा, वहां मिलेगी भीख।

युवकों को पीटने और हड़काने वाले के साथ वहां कुछ और भी थे, जिनकी आवाज वीडियो के बैकग्राउंड में सुनाई दीं। इनमें से कुछ पूरे वाकये का वीडियो रिकॉर्ड कर रहे थे। पत्रकार आलीशान जाफरी ने सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर उस व्यक्ति के प्रोफाइल का फोटो भी शेयर किया, जो युवकों को पीटते नजर आया था।

फेसबुक प्रोफाइल के स्क्रीनशॉट में नाम ललित शर्मा था, जबकि पता अजमेर था। जो प्रोफाइल पिक्चर लगा था, उसमें तिलकधारी मूंछों वाला शख्स खड़ा नजर आ रहा था। हालांकि, जनसत्ता डॉट कॉम इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है।

वायरल वीडियो पर एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- “विराट हिंदुत्ववादी” खुद को “विराट” महसूस कराने के लिए कभी किसी मुसलमान फकीर को मारता है, तो कभी भीड़ इकट्ठा करके चूड़ी बेचने वाले को पीट देता है। ये कम-जर्फी और कमतरी गोडसे की हिंदुत्ववादी सोच का नतीजा है। अगर समाज ये सोच का मुकाबला नहीं करेगा तो ये कैंसर की तरह फैलती रहेगी।

वैसे, अजमेर पुलिस ने हमारे सहयोगी अखबार दि इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि यह घटना पिछले हफ्ते की है। वायरल वीडियो के आधार पर पांच लोगों को सीआरपीसी के सेक्शन 151 के तहत हिरासत में ले लिया गया है। रामगंज पुलिस स्टेशन के कॉन्सटेबल गजेंद्र ने बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों में 40 वर्षीय ललित शर्मा, 32 वर्षीय सुरेंद्र, 27 वर्षीय तेजपाल, 32 वर्षीय रोहित शर्मा और 31 साल का शैलेंद्र टांक शामिल हैं। सर्किल ऑफिसर ने कहा- अगर पीड़ित आगे आकर शिकायत देता है, तब संबंधित धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की जाएगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।