ताज़ा खबर
 

राजस्‍थान: गहलोत सरकार की कर्ज माफी में धांधली, लिस्‍ट में कर्ज न लेने वालों के भी नाम

घटना के उजागर होने के बाद डुंगरपुर के जिलाधिकारी ने जांच के लिए एक टीम शिकायत वाले गांवों में भेज दी है। इसके अलावा लोन सुपरवाइजर को सस्पेंड कर दिया गया है और बैंक के मैनेजर की शक्तियों को सीमित कर दिया गया है।

राजस्थान में किसान ऋण माफी में धांधली के आरोप लगे हैं. (एक्सप्रेस फाइल फोटो/ अमित मेहरा)

राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस की सरकार अपनी पहली ही योजना को लेकर सवालों से घिर गई है। डुंगरपुर जिला के लोगों ने किसानों की ऋण माफी में धांधली का आरोप लगाया है। एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक डुंगरपुर के लोगों का कहना है कि कर्ज माफी की सूची में उन लोगों के नाम भी शामिल हैं, जिन्होंने कभी भी बैंक से लोन नहीं लिया। लोगों ने इस संदर्भ में सबूत होने का भी दावा किया है। घटना के उजागर होने के बाद डुंगरपुर के जिलाधिकारी ने जांच के लिए एक टीम शिकायत वाले गांवों में भेज दी है। इसके अलावा लोन सुपरवाइजर को सस्पेंड कर दिया गया है और बैंक के मैनेजर की शक्तियों को सीमित कर दिया गया है।

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने राजस्थान के किसानों से उनके ऋण माफ करने का वादा किया था। चुनाव जीतने के बाद जैसे ही अशोक गहलतो मुख्यमंत्री बने उन्होंने कर्ज माफी की योजना पर मुहर लगा दी। राजस्थान में ने किसानों के 2 लाख रुपये तक के लोन माफ किए जा रहे हैं। जानकारों मानना है कि इससे राज्य सरकार पर 18 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। इससे पहले छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस की सरकारों ने किसान ऋण माफी का ऐलान कर दिया है। राजस्थान में लोन माफी पर मुहर लगने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा था, “हमने (किसानों की कर्ज माफी) दस दिन की बात कही थी, लेकिन दो ही दिन में कर दिया।”

राजस्थान में उन किसानों के 2 लाख रुपये तक के ऋण माफी करने की घोषणा की गई है, जिन्होंने वाणिज्यिक, राष्ट्रीयकृत और ग्रामीण बैंकों से कर्ज लिया है। गौरतलब है कि बीते पांच राज्यों के चुनावों में कांग्रेस ने तीन हिंदी भाषी राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में वापसी की है। माना जाता है कि इन राज्यों में वापसी का सबसे मजबूत आधार किसानों की कर्ज माफी का ऐलान था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App