ताज़ा खबर
 

सरकारी अस्पताल के प्रसव कक्षों में गायत्री मंत्र का पाठ, मुस्लिमों ने किया हंगामा

विशेष सचिव (स्वास्थ्य) ने दावा किया कि राज्य सरकार द्वारा गायत्री मंत्र बजाने के निर्देश नहीं दिए गए हैं। बल्कि मानिसक तनाव को दूर करने के लिए मेडिटेशन साउंड को बजाने के लिए कहा गया है।

Rajasthan, labour room, Gayatri Mantra, Gayatri Mantra sound, CMHO, rajasthan hospitalगायत्री मंत्र बजाने पर मुस्लिम नाराज। (फाइल फोटो) फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

राजस्थान के सरकारी अस्तपताल के प्रसव कक्षों में गायत्री मंत्री का पाठ करने का मुस्लिमों ने विरोध किया है। मुस्लिम कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि प्रसव पीड़ा को कम करने के लिए गर्भवती महिलाओं को गायत्री मंत्र सुनाया जा रहा है। मामला सवाई माधोपुर के अस्पताल का है।

सवाई माधोपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तेजराम मीणा (CMHO) ने टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बातचीत में इस बात की पुष्टि की है कि जिला अस्पताल के अस्पताल में गायत्री मंत्र को बजाया जा रहा है। इसके अलावा जिले के 20 अन्य अस्पताल में भी इस पहल की शुरुआत होने जा रही है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि गर्भवती महिलाओं को गायत्री मंत्र सुनाने से उनको कम पीड़ा होती है।

वहीं प्रिंसिपल मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर ग्रोवर ने इस पर कहा है कि ‘हम प्रसव कक्षों में भजन और गायत्री मंत्र को पिछले एक साल से बजा रहे हैं इससे गर्भवती महिलाएं तनावमुक्त रहती हैं। वहीं उदयपुर के अस्पताल में भी इस तरह की मुहिम शुरू करने की तैयारी चल रही है। उदयपुर जिले के स्वास्थ्य विभाग के एक सीनियर अधिकारी ने जानकारी दी है कि सरकार द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेज के प्रसव कक्षों में भी गायत्री मंत्र को बजाने पर विचार किया जा रहा है।

वहीं विशेष सचिव (स्वास्थ्य) डॉ. समित शर्मा ने दावा किया कि राज्य सरकार द्वारा गायत्री मंत्र बजाने के निर्देश नहीं दिए गए हैं। बल्कि मानिसक तनाव को दूर करने के लिए मेडिटेशन साउंड को बजाने के लिए कहा गया है। हम एक सेक्युलर देश हैं। अगर कुछ अस्पताल गायत्री मंत्र को बजा रहे हैं तो उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की जाएगी।

बहरहाल मुस्लिम कार्यकर्ताओं को यह पहल बिल्कुल भी पसंद नहीं आ रही। इसका विरोध कर रहे मुस्लिम कार्यकर्ता अशफाक कायमखानी ने कहा कि इस्लाम के मुताबिक, एक नवजात शिशु के कानों में पहली धुन अजान की जानी चाहिए।

वहीं (मातृ स्वास्थ्य), स्वास्थ्य विभाग के प्रोजेक्ट डायरेक्टर डॉक्टर तरुण चौधरी ने कहा कि ‘हमने काफी रिसर्च के बाद इस धुन (गायत्री मंत्र) को चुना था जिसे राज्य के सभी जिला अधिकारियों को भी सौंप दिया गया था। इसमें सुखदायक ध्वनियों के अलावा कुछ भी नहीं है, जो कि मां और गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए बेहद लाभकारी है। हम प्रसव कक्षों में एक शांति का माहौल बनाना चाहते हैं।’

वहीं सीकर जिले से आई एक गर्भवती महिला अनामिका ने कहा कि गायत्री मंत्र का साउंड बेहद ही सुखदायक है जिससे मेरा तनाव काफी हद तक दूर हुआ।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बीजेपी कार्यकर्ता प्रियंका को तुरंत न रिहा करने पर बंगाल सरकार को फटकार, सुप्रीम कोर्ट बोली- जारी कर देंगे अवमानना का नोटिस
2 देशविरोधी नारे लगाने के आरोपी उमर खालिद की पीएचडी पूरी, जानें किन्हें कहा शुक्रिया
ये पढ़ा क्या?
X