ताज़ा खबर
 

मुस्लिम थी गर्भवती, इसलिए डॉक्टर ने कहा- नहीं करेंगे एडमिट! डिलीवरी के बाद बच्चे की मौत

मामले के तूल पकड़ने के बाद भरतपुर जिला प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं। महिला के पति का कहना है कि मेरी गर्भवती पत्नी को बच्चे को जन्म देना था, उसे सीकरी से जनाना अस्तपताल रेफर किया गया था, लेकिन डॉक्टर्स ने उसे मुस्लिम महिला बताते हुए जयपुर रेफर कर दिया।

मामला राजस्थान के भरतपुर। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राजस्थान के भरतपुर में इंसानियत को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। अस्पताल पर आरोप है कि उसने गर्भवती महिला को भर्ती करने से इस वजह से मना कर दिया क्योंकि वह मुस्लिम थी। अस्पताल से निकलने के बाद महिला ने एंबुलेंस के अंदर बच्चे को जन्म दिया। कुछ देर बाद उस नवजात  ने दम  तोड़ दिया।

मामले के तूल पकड़ने के बाद भरतपुर जिला प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं। महिला के पति का कहना है कि मेरी गर्भवती पत्नी को बच्चे को जन्म देना था, उसे सीकरी से जनाना अस्तपताल रेफर किया गया था, लेकिन डॉक्टर्स ने उसे मुस्लिम महिला बताते हुए जयपुर रेफर कर दिया। वहीं इस मामले पर जनाना अस्पताल के प्रिंसिपल डॉ. रुपेंद्र झा का कहना है कि महिला नाजुक स्थिति में डिलीवरी के लिए आई थी। उसे जयपुर रेफर किया गया था।

वहीं इस मामले पर सियासत भी जोर पकड़ती नजर आ रही है। राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि यह शर्मनाक मामला है। डॉक्टर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।वहीं, दूसरी तरफ उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य मंत्री से डॉक्टर की इस हरकत को लेकर कड़ी कार्यवाही की मांग की है। उन्होंने कहा कि तबलीगी जमात  के लोगों के चलते  पूरे देश में संकट स्थिति पैदा हुई है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मुस्लिम समाज के लोगों के साथ ऐसा बर्ताव किया जाए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 COVID-19 संकट के बीच 15 अप्रैल से UP में खुल जाएगा लॉकडाउन? CM योगी आदित्यनाथ ने दिया ये जवाब
2 इनको ही पकड़ लीजिए… ये लोग कौम को बदनाम कर रहे हैं, लाइव बहस के दौरान मुस्लिम स्कॉलर पर भड़के पैनलिस्ट
3 Ayushman Bharat Yojana लाभार्थियों के लिए राहत! अस्पतालों में COVID-19 की जांच और इलाज होगा मुफ्त