ताज़ा खबर
 

अलवर मामले पर राजस्‍थान की सीएम वसुंधरा राजे चुप पर स्‍टॉकहोम पर जताया दुख, टि्वटर पर हुई ट्रॉल

राजस्‍थान के अलवर में पशु मेले से गायें खरीदकर ले जा रहे मुस्लिम व्‍यक्तियों की पिटाई और एक शख्‍स की मौत पर राज्‍य सरकार सवालों के घेरे में हैं

राजस्‍थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे। (फाइल फोटो)

राजस्‍थान के अलवर में पशु मेले से गायें खरीदकर ले जा रहे मुस्लिम व्‍यक्तियों की पिटाई और एक शख्‍स की मौत पर राज्‍य सरकार सवालों के घेरे में हैं। राजस्‍थान की वसुंधरा राजे के नेतृत्‍व वाली सरकार की इस मामले में चुप्‍पी की काफी आलोचना हो रही है। गौरतलब है कि पिछले शनिवार को अलवर हाईवे पर तथाकथित गौरक्षकों ने गायें ले जा रहे लोगों पर हमला बोल दिया था। इसमें 55 साल के पहलु खान ने अस्‍पताल में दम तोड़ दिया था। सभी पीडि़त लोग हरियाणा के नूंह जिले के रहने वाले हैं। लेकिन इस मामले पर ना तो राजस्‍थान की मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे और ना ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से कोई ट्वीट आया। इस मामले पर बोलने के बजाय दोनों नेता स्‍वीडन की राजधानी स्‍टॉकहोम में हुए हमले को लेकर संवेदना जताते दिखे।

वसुंधरा राजे ने स्‍टॉकहोम हमले के बाद ट्वीट कर कहा, ”मेरी संवेदनाएं स्‍टॉकहोम आतंकी हमले के पीडि़तों के साथ हैं। हम इस कठिन समय में स्‍वीडन के लोगों के साथ हैं।” उनके इस ट्वीट के बाद लोगों ने कड़ी प्रतिक्रियाएं दी और उन्‍हें याद दिलाया कि अलवर राजस्‍थान में ही आता है, जहां एक शख्‍स को गौरक्षा के नाम पर पीट-पीटकर मार डाला गया।

लोगों ने लिखा कि अलवर से जयपुर की दूरी केवल 155 किलोमीटर है और वहां हुए अपराध पर चुप्‍पी है। जबकि 5640 किलोमीटर दूर स्थित स्‍टॉकहोम को लेकर आपके दिल में दर्द है। राजस्‍थान कांग्रेस अध्‍यक्ष सचिन पायलट ने भी राजे के ट्वीट पर कहा, ”अलवर में भीड़ द्वारा पीट-पीटकर मारे गए शख्‍स को लेकर कोई पछतावा या संवेदना नहीं। सीएम को ऐसे तथाकथित गौ रक्षकों और उनकी हिंसा के खिलाफ बोलना चाहिए। क्‍या वह बोलेंगी?”

बागों में बहार है नाम के अकाउंट से राजे के लिए लिखा गया, ”माते, अलवर भी राजस्थान में आता है। पहलू खान को पीट-पीट कर मार डाला और दूसरे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं, 1 Tweet उनके लिए भी कर दो।” रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल एचएस पनाग ने लिखा, ”इसीलिए वह महान हैं। उनका ध्‍यान तो स्‍वीडन पर है।” एक ट्वीट में उनके ललित मोदी से रिश्‍तों का जिक्र करते हुए लिखा गया, ”क्‍या उनके स्‍वीडन में काफी आर्थिक हित हैं? ललित मोदी का वहां कोई कनेक्‍शन है क्‍या?”

आर्टिस्‍ट नाम के अकाउंट से लिखा गया, ”बेशर्मी की हद है। खुद के स्‍टेट में जान चली गई एक आदमी की और स्‍टॉकहोम पर आंसू बहा रही है।” ठाकुर विक्रमजीत के अकाउंट से ट्वीट में लिखा, ”अलवर में सरेआम मुस्लिम को घसीट घसीट पिटा जाता है तब न पीएम महोदय को दुख होता है न CM को और नकवी को रंतौधी हो रखी है उसे दिखता ही नहीं।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App