ताज़ा खबर
 

कुछ दिनों पहले ही विधानसभा से पास कराया था CAA के खिलाफ प्रस्ताव, अब बोल रहे कांग्रेसी स्पीकर- लागू करना ही पड़ेगा

विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के इस बयान का साफ मतलब है कि राज्य सरकार चाहे जितना विरोध कर ले, केंद्र से पास होने के बाद उसे लागू करना ही होगा।

उदयपुर में एक कार्यक्रम में बोलते राजस्थान के स्पीकर सीपी जोशी (फोटो- एएनआई)

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देश के अलग-अलग हिस्सों में विरोध-प्रदर्शन के बीच कुछ दिन पहले ही राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने विधानसभा में इसके खिलाफ प्रस्ताव पास कराया था। अब वहीं के स्पीकर इसको लागू करने की बात कही है। स्पीकर का यह बयान विधानसभा में पास प्रस्ताव से ठीक उलटा है। राज्य में इसको लेकर राजनीतिक चर्चाएं तेज हो गई हैं। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है। ऐसे में स्पीकर का यह बयान बहुत महत्वपूर्ण है। इसके पहले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और सलमान खुर्शीद ने भी ऐसी बातें कही थीं।

राजस्थान के उदयपुर में शुक्रवार को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने एक कार्यक्रम में कहा, “भारत सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून को पास कर दिया है और राज्य सरकार को इसे लागू करना है। संविधान के अनुसार नागरिकता केंद्र का विषय है, राज्य का नहीं।” उनके इस बयान का साफ मतलब है कि राज्य सरकार चाहे जितना विरोध कर ले, केंद्र से पास होने के बाद उसे लागू करना ही होगा।

कुछ ही दिन पहले कांग्रेस के नेता और वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कहा था, “जब सीएए संसद से पारित हो चुका है तो कोई भी राज्य यह नहीं कह सकता कि मैं उसे लागू नहीं करूंगा। यह संभव नहीं है और असंवैधानिक है। आप उसका विरोध कर सकते हैं, विधानसभा में प्रस्ताव पारित कर सकते हैं और केंद्र सरकार से (कानून) वापस लेने की मांग कर सकते हैं, लेकिन संवैधानिक रूप से यह कहना कि मैं इसे लागू नहीं करूंगा, अधिक समस्याएं पैदा कर सकता है।” कांग्रेस के दिग्गज नेता कपिल सिब्बल के बाद अब सलमान खुर्शीद ने भी इस बात पर हामी भरी है कि संवैधानिक तौर पर कोई भी राज्य इसे लागू करने से इनकार नहीं कर सकता है।

अभी हाल ही में संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए दोनों सदनों में पीएम नरेंद्र मोदी ने भी कहा थी कि नागरिकता संशोधन कानून यानी सीएए को लेकर जो अंदेशे से ग्रस्त हैं या फिर उसके खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं, उन लोगों को तो वास्तविकता का आभास हो ही जाना चाहिए। तब विरोध का मतलब नहीं रह गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 19 फरवरी को होगा राम मंदिर ट्रस्ट के अधिकारियों का चुनाव, नई दिल्ली में बुलाई गई पहली मीटिंग
2 बिहार: क्या जेडीयू से मुस्लिम विधायकों का हो रहा मोहभंग? नीतीश के करीबी MLC ने की लालू यादव से मुलाकात
3 Kerala Pournami Lottery RN-429 Results Highlights: नतीजे जारी, 70 लाख रुपए तक की लॉटरी
ये पढ़ा क्या...
X