ताज़ा खबर
 

चुनावी राज्‍यों में मुफ्त मोबाइल फोन देने की घोषणा से रिलायंस जियो की बल्‍ले-बल्‍ले, इन राज्‍यों का मिला ठेका

चुनावों के ऐलान से पहले दोनों ही प्रदेशों की राज्य सरकारों ने मुफ्त में स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन बांटने की योजना शुरू की है। इस योजना से दोनों प्रदेशों के करीब 1.5 करोड़ परिवार लाभान्वित होंगे।

राजस्‍थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह। फोटो- एक्सप्रेस आर्काइव

देश के दो बड़े राज्यों राजस्थान और छत्‍तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव का ऐलान होने ही वाला है। इन दोनों ही राज्यों में केंद्र में सत्तासीन भारतीय जनता पार्टी की सरकारें हैं। चुनावों के ऐलान से पहले दोनों ही प्रदेशों की राज्य सरकारों ने मुफ्त में स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन बांटने की योजना शुरू की है। इस योजना से दोनों प्रदेशों के करीब 1.5 करोड़ परिवार लाभान्वित होंगे। इस योजना के जरिए दोनों राज्यों की तीन-चौथाई आबादी को कवर किया जा सकेगा। इससे टेलीकॉम कंपनियों को भी ग्रामीण इलाके के ऐसे करोड़ों उपभोक्ताओं तक फोन, कनेक्शन और डेटा की सुविधाएं पहुंचाने में मदद मिलेगी, जो पहली बार इन सुविधाओं का लाभ उठा रहे हैं। ग्राहकों के लिए फायदे की बात ये भी है कि वह ये सुविधा उठा सकें, इसके लिए पैसे भी राज्य सरकार दे रही है।

1500 करोड़ का दिया ऑर्डर: छत्तीसगढ़ में रमन सिंह सरकार 50 लाख लोगों को मुफ्त में 4जी स्मार्टफोन देगी। इसके लिए फोन के लिए सरकार ने माइक्रोमैक्स के साथ करार किया है जबकि इस मोबाइल में सिम जियो का होगा। इस करार के लिए सरकार ने 1500 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। ये ठेका रिलायंस​ जियो ने खुली बोली की नीलामी में हासिल किया है। नीलामी में सभी प्रमुख कंपनियों ने शिरकत की थी। इस सरकारी योजना का नाम संचार क्रांति योजना है। इस योजना का उद्देश्य महिलाओं और विद्यार्थियों तक फ्री में स्मार्टफोन पहुंचाना है। रमन सिंह सरकार के विरोधी इसे वोटों के ध्रुवीकरण की साजिश बता रहे हैं।

चुनाव से जोड़कर न देखें: हालांकि खुद छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह का कहना है कि इस योजना का मकसद मोबाइल फोन से वंचित परिवारों को मोबाइल देना और राज्य में संचार क्रांति लाना है। आज भी कई स्टूडेंट्स और महिलाएं ऐसी हैं जिनके पास स्मार्टफोन न होने के चलते उन्हें आगे बढ़ने में मुश्किल होती है। ये स्कीम इसी बात को ध्यान में रखकर शुरू की गई है। इसे चुनाव से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए।

मोबाइल बांटने के लिए 10 हजार कैंप: छत्तीसगढ़ में मोबाइल फोन के वितरण के लिए 10 हजार कैंप लगाए गए हैं। पहली प्राथमिकता महिलाओं तक मोबाइल पहुंचाना है। 50 लाख मोबाइल महिलाओं के बीच बंटने के बाद कॉलेज के विद्यार्थियों में मोबाइल का वितरण शुरू होगा। ये फोन जियो कनेक्शन के साथ दिया जा रहा है।

ऐसा होगा स्‍मार्टफोन: महिलाओं को दिए जा रहे स्मार्टफोन में 4 इंच की डिस्प्ले स्क्रीन है। 1GB रैम और 8GB इंटरनल मेमोरी है। इस मेमोरी को माइक्रो एसडी कार्ड की मदद से बढ़ाया जा सकेगा। फोन में कैमरा भी दिया गया है। वहीं विद्यार्थियों को दिए जाने वाले स्मार्टफोन में 5 इंच की डिस्प्ले स्क्रीन है। 2GB रैम और 16GB इंटरनल मेमोरी है। इसकी मेमोरी को माइक्रो SD कार्ड की मदद से बढ़ाया जा सकेगा। फोन में कैमरा भी दिया गया है।

सिर्फ 95 रुपये में मिलेगा मोबाइल: वहीं राजस्थान सरकार की योजना से भामाशाह कार्ड धारकों को सिर्फ 95 रुपये में फोन मिल रहा है।सरकार की ओर से लोगों को 1000 रुपए दिए जा रहे हैं, जबकि वे 1095 रुपए में फोन खरीद रहे हैं। वैसे तो वे किसी भी कंपनी का फोन या सिम ले सकते हैं, लेकिन जियो की योजना पहले से चल रही है तो जियो को इसका फायदा मिल रहा है। ग्राहक को शुरुआत में 1,095 रुपये देने होते हैं। फोन खरीदते ही 1000 रुपये का कैशबैक मिल जाता है। यानी सिर्फ 95 रुपये में ग्राहक फोन का मालिक बन रहा है। इस फोन के साथ 6 महीने की वैलिडिटी और 128 जीबी डेटा के साथ ही 500 एसएमएस का पैक भी मिलेगा। फोन बिक्री के लिए अटल सेवा केंद्र पर स्टॉल लगाए गए हैं। सरकार के मुताबिक 30 सितंबर तक ये फोन सभी विधानसभा क्षेत्रों में बांट दिए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App