अफगानिस्तान में भारत की पहली निर्वासित सरकार के राष्ट्रपति थे राजा महेंद्र प्रताप सिंह, पीएम ने रखी विवि की आधारशिला

किसान आंदोलन से उपजे गुस्से को कम करने के लिए बीजेपी ने सियासी दांव खेला है। मंगलवार को पीएम मोदी ने अलीगढ़ में PM ने राजा महेंद्र प्रताप सिंह विवि की आधारशिला रखी।

MAHENDRA PRATAP, pm modi, aligarh
जाट वोटबैंक को रिझाने के लिए PM ने रखी विवि की रखी आधारशिला। (फोटोः ट्विटर@Anilsingh9761)

राजा महेंद्र प्रताप सिंह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हाथरस ज़िले के मुरसान रियासत के राजा थे। जाट परिवार से निकले महेंद्र प्रताप लेखक और पत्रकार भी रहे। पहले विश्वयुद्ध के दौरान अफगानिस्तान जाकर उन्होंने भारत की पहली निर्वासित सरकार बनाई। वह इस निर्वासित सरकार के राष्ट्रपति थे। एक दिसंबर, 1915 को राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने अफगानिस्तान में पहली निर्वासित सरकार की घोषणा की थी। यानि अंग्रेज़ों के शासन के दौरान स्वतंत्र भारतीय सरकार की घोषणा। जो काम उन्होंने किया वही सुभाष चंद्र बोस ने किया था। लेकिन राजा महेंद्र प्रताप सिंह घोषित तौर पर कांग्रेस में नहीं रहे। उनके नाम पर ही पीएम मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ में एक विवि की आधारशिला रखी।

महेंद्र प्रताप सिंह पर प्रकाशित अभिनंदन ग्रंथ में उनके महात्मा गांधी से संपर्क का भी जिक्र है। बोस निर्वासित सरकार के गठन के बाद स्वदेश नहीं लौट सके, लेकिन महेंद्र प्रताप सिंह भारत भी लौटे। आजादी के बाद राजनीति में भी सक्रिय हुए। 32 साल तक देश से बाहर रहे राजा महेंद्र प्रताप सिंह ने भारत को आजाद कराने की कोशिशों के लिए जर्मनी, रूस और जापान जैसे देशों से मदद मांगी पर कामयाब नहीं हुए। 1946 में जब वो भारत लौटे तो सबसे पहले वर्धा में महात्मा गांधी से मिलने गए। लेकिन कांग्रेस सरकारों ने उन्हें उपेक्षित ही रखा।

1957 में वह मथुरा से चुनाव लड़े और निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर उन्होंने जीत हासिल की। चुनाव में जनसंघ के उम्मीदवार के तौर पर अटल बिहारी वाजपेयी भी यहां चुनाव मैदान में खड़े हुए थे। वाजपेयी इस चुनाव में चौथे नंबर पर आए थे। महेंद्र प्रताप सिंह कभी हिंदू-मुसलमान के पचड़े में नहीं पड़े। उन्हें आर्य पेशवा त्याग मूर्ति के तौर पर भी जाना जाता रहा। उन्होंने अफगानिस्तान में जो निर्वासित सरकार बनाई थी, उसमें वह राष्ट्रपति थे लेकिन प्रधानमंत्री उन्होंने मोहम्मद बरकतुल्लाह भोपाली को बनाया था। उनका रूझान वामपंथ की ओर दिखा। वे रूसी क्रांति से प्रभावित थे।

राजा महेंद्र प्रताप ने वृंदावन में प्रेम महाविद्यालय की स्थापना की थी। प्रेम विद्यालय मौजूदा समय में वृंदावन पॉलीटेकनिक संस्थान के तौर पर उम्दा संस्थान माना जाता है। 1932 में राजा महेंद्र प्रताप सिंह को शांति के नोबल पुरस्कार के लिए नामांकित किया गया था। 1962 में मथुरा लोकसभा से चुनाव हारने के बाद वे सार्वजनिक जीवन में बहुत सक्रिय नहीं रहे। उनका निधन 29 अप्रैल, 1979 को हुआ। उनके निधन पर तत्कालीन केंद्र सरकार ने डाक टिकट भी जारी किया था।

जाट वोटबैंक को रिझाने के लिए PM ने रखी विवि की रखी आधारशिला

किसान आंदोलन से उपजे गुस्से को कम करने के लिए बीजेपी ने सियासी दांव खेला है। मंगलवार को पीएम मोदी ने अलीगढ़ में PM ने राजा महेंद्र प्रताप सिंह विवि की आधारशिला रखी। मोदी ने अलीगढ़ आगमन पर सबसे पहले राजा महेन्द्र प्रताप सिंह राज्य विश्वविद्यालय के माडल का अवलोकन किया। उनके साथ राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ व डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा भी थे।

जानकारों का कहना है कि फिलहाल पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जिस तरह से जाट किसान मोदी सरकार का विरोध कर रहे हैं। उसमें इसे जाट समुदाय को मनाने की कोशिश के तौर पर भी देखा जा रहा है। केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान कहते हैं कि उनकी पीढ़ी को तो राजा महेंद्र प्रताप सिंह के बारे में मालूम था, लेकिन आज की युवा पीढ़ी को जानकारी नहीं है। अब उन तक जानकारी पहुँचेगी तो उन्हें भी सम्मान का बोध होगा कि हमारे समुदाय का व्यक्ति कितना बड़ा आदमी था।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X